स्पेशल प्लेन से भी वापिस नही जाना चाहता, गुजरात में लॉकडाउन के चलते फंसा था रूस का परिवार

0
394

भारत की हमेशा से ही एक फिलोसोपी रही है अतिथि देवो भव. यहाँ पर अगर कोई बाहर से आता है तो उसे भगवान् स्वरुप मानते है और उसे किसी चीज की दिक्कत नही होने देते है. अब ऐसा ही कुछ रूस का ये परिवार भी महसूस कर रहा है जो लॉक डाउन के चलते हुए गुजरात के द्वारका शहर में फंस गया है.

ये लोग घूमने के लिए भारत आये थे और इनकी 26 मार्च की वापसी थी लेकिन वापसी से पहले ही भारत में लॉक डाउन हो गया और सब कुछ सील कर दिया गया. अब ऐसी स्थिति में ये लोग जहाँ पर थे वहाँ पर ही फंस गये. अब ऐसे वक्त में टेंसन में तो ये लोग आए लेकिन इनके लिए सब इंतजाम हो गया.

जिस ट्रेवल एजेंट के जरीये ये लोग आये थे उसने ही इनके रहने के लिए एक बिल्डिंग के एक फ्लोर में सारी व्यवस्था करवा दी जहाँ पर अभी ये लोग रह रहे है. ये लोग अभी काफी शान्ति से जी रहे है इनके लिए प्रशासन और मंदिर आदि से राशन, खाना पीना आदि आ जाता है. पत्नी प्रेग्नेंट है तो पत्नी के लिए भी जो जरूरी चिकित्सकीय सामग्री है वो भी उपलब्ध करवाके रख दी गयी है. ये पूरा परिवार यहाँ पर इतना ज्यादा संतुष्ट है कि इन्होने तो कह दिया है कि यहाँ पर ये लोग बिलकुल खुश है और जब तक ये करोना वाला चक्कर चल रहा है तब तक ये लोग यही पर ही रहना चाहते है.

रूसी दूतावास अगर उनके लिए विशेष विमान भी चलाता है तो भी ये लोग जाना पसंद नही करेंगे. यहाँ पर इन लोगो को कोई दिक्कत नही है. ऐसे में भारत की एक इमेज अच्छी बन रही है जो अपने आप में काफी ज्यादा लाभकारी सिद्ध दुनिया के लेवल पर होगी कि वाकई में यहाँ पर लोगो का ख्याल तो रखा जाता है.