अब खतरे में है उद्धव ठाकरे की सरकार? पहले शरद पवार और अब राहुल गांधी का बड़ा बयान

0
261

फ़िलहाल दिनो में महाराष्ट्र में राजनीतिक हालात किस तरह के बने हुए है वो किसी से भी किसी कीमत पर छुपे हुए नही है और कही न कही ये चीज उद्धव ठाकरे के लिए कुर्सी को बार बार हिला देने वाली साबित हो रहे है. ये अपने आप में सही बात भी है क्योंकि वाकई में ऐसा है ही. खैर अभी हम बात करते है अब के सिनेरियो की तो महाराष्ट्र में सरकार महामारी को रोकने में फेल रही है, अन्दर कलह की खबर भी आउट हुई है. वही बीजेपी अस्थिरता का हवाला देते हुए राष्ट्रपति शासन की मांग कर रही है.

अब इस मामले में इसकी दो सहयोगी पार्टियों का साथ देखना भी तो जरूरी है जिसमे से शरद पवार ने तो साफ़ कर दिया कि हमारी तरफ से कोई खतरा नही है और हम उद्धव ठाकरे को समर्थन दिए हुए है लेकिन राहुल गांधी का बयान जो हाल ही में आया है वो असमंजस से भरा हुआ है.

राहुल गांधी ने कहा कि हम राजस्थान, पंजाब, छत्तीसगढ़, पुडूचेरी में डिसीजन मेकर है लेकिन महाराष्ट्र में हम नही है. हम सरकार में नही है बल्कि सरकार को समर्थन दे रखा है. राहुल ने ठाकरे से अपना पल्ला झाड़ते हुए साफ़ कहा कि हम वहाँ की सरकार में डिसीजन मेकर है ही नही. यानी उद्धव को सिर्फ ये एक तरह का टेम्परेरी सपोर्ट टाइप है और कब ये खत्म हो जाए कुछ कह नही सकते और सत्ता ढह भी सकती है.

ऐसे में बीजेपी भी राजनीतिक अस्थिरता को देखते हुए मांग कर रही है कि राष्ट्रपति शासन लगा दिया जान चाहिए जिस पर संजय राउत काफी नाराज हो रहे है और कह रहे है कि विपक्ष को क्वारंटाइन किये जाने की जरूरत है. बातो का बोल बच्चन महाराष्ट्र में खूब हो रहा है और जमकर के हो रहा है जिस पर कोई क्या ही कहे?