भारतीय सेना अपने वफादार कुत्तो के रिटायर होने के बाद उनके साथ क्या करती है? जानिये

0
356

भारतीय सेना अपने आप में गर्व करवाने वाली फ़ौज है जो अपने आप में एक प्रोफेशनल आर्मी कही जाती है और कही भी क्यों न जाए? इस सेना ने जिस तरह से अपने आपको साबित किया है वो अपने आप में गजब है मगर कई चीजे है जो आपको शायद इसके बारे में मालूम नही होगी. आज हम आपको इसी के बारे में बताने भी वाले है. आपको पता तो होगा ही कि कुत्तो की सेना में बड़ी ही अहम् भूमिका होती है.

ये कई बड़े बड़े ऑपरेशन में काफी ज्यादा मददगार साबित होते है लेकिन जब ये कुत्ते सेना से रिटायर होते है तब इनके साथ में जो किया जाता है वो अपने आप में काफी ज्यादा बुरा और तकलीफ देने वाला है. ऐसे कुत्ते जो कि आर्मी में स्निफिंग का काम करते है उनके रिटायर हो जाने के बाद में उन पर गोली चला दी जाती है और वो खत्म हो जाते है.

इसके बाद में उनको सम्मान के साथ में अंतिम संस्कार दिया जाता है लेकिन ऐसा क्यों होता है कि अपने ही कुत्ते पर गोली चला दी जाती है? इसके पीछे कारण होता है और बहुत ही ज्यादा ख़ास कारण होता है. दरअसल इन कुत्तो को आर्मी के बेस कैंप, कई गुप्त स्थानों आदि की जानकारी होती है जिनके बारे में अगर किसी गलत आदमी को पता लग जाए तो फिर ये अपने आप में काफी बुरा हो सकता है.

कुत्ता उसका पालतू हो जाने पर उसको ये सब जानकारी दे सकता है जिससे उसकी पूरी की पूरी जानकारी मालिक के पास आ जाती है और ये राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा होता है. कही न कही ये चीज बड़ी ही बुरी और खतरनाक है. इस वजह से आर्मी को मजबुरी में ये करना पड़ता है वरना अपने साथ में जो मिशन पर डॉग रहे उसे जान से खत्म कोई क्यों करना चाहेगा?