भारत ने बना लिया नया रिकॉर्ड, रूस को भी पछाड़ा

0
670

भारत ने एक लम्बे वक्त तक गरीबी देखी है और लोगो ने भी काफी ज्यादा परेशानियां देखी है और इस बात को कोई भी नकार नही सकता है मगर इस बदलते हुए वक्त ने भारत ने भी कई बड़े बड़े मुकाम हासिल किये है जिसकी बदौलत आज हिन्दुस्तान की ताकत कई गुना बढ़ती ही जा रही है. अभी की बात ही कर लीजिए. जब सारी दुनिया आर्थिक स्थिति के चलते जूझ रही है ऐसे वक्त में भारत ने विदेशी मुद्रा भण्डार में एक नया मुकाम हासिल कर लिया है.

भारत के विदेशी मुद्रा भण्डार में फिलहाल के दिनों में बेहताशा वृद्दिः हुई है जो बढकर के हाल ही में 501 अरब डॉलर को पार कर गया है. अब भारत दुनिया के टॉप तीन देशो में शामिल हो गया है जिनके पास में सबसे अधिक विदेशी मुद्रा का भण्डार है. भारत से पहले एक नम्बर पर चीन और दुसरे नम्बर पर जापान है.

अगर हिन्दुस्तान जोर लगायेगा तो पहले नम्बर पर आटे हुए भी देर नही लगने वाली है. अब तक तीसरे नम्बर पर रूस हुआ करता था जो कि अब भारत के लम्बे छलांग लगाने के बाद में चौथे नम्बर पर चला गया है जबकि भारत अब तीसरे नम्बर पर काबिज है. अब आप कहेंगे कि इ विदेशी मुद्रा भण्डार होने का अर्थ क्या है? तो इसका अर्थ और फायदा ये है कि जिस देश के पास में जितना ज्यादा विदेशी मुद्रा भण्डार है वो उतना ही ज्यादा सेफ है.

वहाँ पर अगर कोई आर्थिक भूचाल या कोई वार टाइप कंडीशन भी बनती है तो इस मुद्रा भण्डार का इस्तेमाल करके उसे झेला जा सकता है और लोगो की जिन्दगी सामान्य बनी रहेगी. इस वजह से दुनिया के सभी देश अपने अपने विदेशी मुद्रा भण्डार को बढाने का काम करते है और ये अपने आप में एक देश की ताकत बनता है.