400 वर्ष पुराना पेड़ आया हाईवे के बीच में, नितिन गडकरी ने लिया ये फैसला

0
203

एक लम्बे वक्त से इंसानों पर आरोप लगा है कि वो प्रकृति की बिलकुल भी रक्षा नही करते है जबकि जिम्मेदारी उनको ही मिली हुई है. बात अपने आप में ठीक भी है लेकिन कही न कही ये चीज उन लोगो पर लागू होती है जो वाकई में नुकसान करते है मगर भारत की सरकार ने आज एक सबूत दिया है कि वो नेचर का कितना सम्मान करते है. ये पूरा मामला महाराष्ट्र के सांगली जिले का है जहाँ पर रहने वाले लोगो को वहाँ पर चल रहे हाई वे प्रोजेक्ट से अच्छी खासी दिक्कत होने लग रही थी.

अब आप कहेंगे कि हाई वे तो फायदा ही करवाएगा तो दिक्कत किस बात की है? दरअसल दिक्कत वहाँ पर मौजूद एक 400 साल पुराने पेड़ की वजह से थी जो हाईवे के सर्विस रोड के बीच में आ रहा था और ऐसे में उसे हटाया जाना कही न कही जरूरी हो गया था.

अब ऐसा होते हुए देखकर के वहाँ के पर्यावरण प्रेमी और लोकल लोग इसके खिलाफ खड़े हो गये और कहने लगे कि ये पेड़ बहुत पुराना है, हम इसे कटते हुए नही देख सकते है. उन्होंने इस मामले में युवा नेता आदित्य ठाकरे से कांटेक्ट किया और आदित्य ने ये पूरी बात परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को बतायी तो उन्होंने भी इस मामले पर अच्छे तरीके से एक्शन लिया और हाईवे का ये नक्शा बदलने के बारे में फैसला किया.

अब नए नक़्शे में हाई वे पेड़ से होकर के नही गुजरेगा और वो बचा हुआ रह जाएगा. इससे कही न कही उन लोगो का सम्मान हो गया है जो कही न कही उस पेड़ को बचाने के लिए लड रहे थे. आखिरकार प्रकृति को बचाने का ठेका भी सरकार का ही है क्योंकि चाहे ये बोल नही सकते है लेकिन भारत की भूमि के अंग तो है.