निम्बू की खेती से 5-6 लाख रुपये कमाते हैं अभिषेक, मात्रा 1-2 लाख की लागत से.

0
1281

कुछ लोग केवल फल उगाते हैं, जबकि अन्य अनाज उगाने का काम करते हैं। कई लोग फूलों के बाग लगाकर अपना जीवन यापन करते हैं, जबकि अन्य लोग मछली पकड़कर या गायों को पालकर अपना जीवन यापन करते हैं। अभिषेक जैन एक ऐसे किसान हैं, जो नींबू की खेती और अचार बनाने का सौभाग्य प्राप्त करते हैं।

Green Lemon Fruits in the Stock Footage Video (100% Royalty-free) 17179858 | Shutterstock
अभिषेक जैन भीलवाड़ा के राजस्थानी जिले से हैं। 2007 से वह संग्रामगढ़ में अपनी पुश्तैनी जमीन पर जैविक नींबू और अमरूद उगा रहे हैं। यह ऐसा है जैसे अभिषेक का जीवन बदल हो गया हो। 1.75 एकड़ जमीन पर लगाए गए नींबू से उनकी औसत आय 6 लाख रुपये है, जिसमें 1-1.5 लाख रुपये खर्च होते हैं।

अभिषेक जैन का जीवन कठिन रहा है। उन्हें किसान के रूप में काम करने की कोई इच्छा नहीं थी। अजमेर में B.Com पूरा करने के बाद उन्होंने अपनी संगमरमर की फर्म शुरू की। फिर उनके पिता की मृत्यु हो गई। अपने पिता की असामयिक मृत्यु के कारण, उन्हें खेती की ओर रुख करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

 

अभिषेक ने खेती शुरू की, जहां उन्होंने नींबू और अमरूद के पेड़ लगाए थे। यह पहली बार में असंभव लग रहा था, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, वे प्रकृति से जुड़ते गए। यह काम उन्हें प्रकृति के संपर्क में रहने की अनुमति देता है। अभिषेक जहरीले रसायनों से खेती नहीं करता है। वह अपनी खुद की प्राकृतिक खाद बनाता है। वे बाजार से उर्वरक खरीदने के बजाय जैविक खेती का अभ्यास करके प्रति वर्ष लगभग 2-3 लाख रुपये बचाते हैं। जैविक खेती के कई लाभ हैं। इसके परिणामस्वरूप मिट्टी की गुणवत्ता में भी काफी सुधार हुआ है। वह नींबू और अमरूद उगाने के लिए कड़ी मेहनत करता है। मैं इसे और भी ऊँचा उठाने का प्रयास कर रहा हूँ। वे मसालेदार नींबू भी बनाते हैं।

Fresh Green Lemon at Rs 25/kilogram | Malad West | Mumbai| ID: 20064555730

अभिषेक की रसोई में, नींबू का अचार हमेशा बनाया जाता था। उन्होंने अपने परिवार से सीखने के बाद अचार बनाना शुरू किया। उन्होंने एक बार अपने मेहमानों के लिए अचार बनाया था, जिसका उन्होंने खूब आनंद लिया। अभिषेक के अचार ने धीरे-धीरे लोकप्रियता हासिल की और लोग उनसे इसकी मांग करने लगे। शुरुआत में, उन्होंने लगभग 50 किलोग्राम अचार मुफ्त में दिया। उन्होंने 2016 में अचार बनाना शुरू किया, और तब से प्रति वर्ष 500 से 700 किलोग्राम अचार बेचा। पैकेजिंग और स्टोरेज के अलावा, 900 ग्राम की बोतल की कीमत 200 रुपये है, जो कि कम कीमत है।

यह पूरे देश में उपलब्ध है और हर समय इसकी आवश्यकता होती है। इसका उपयोग भोजन के स्वाद को बेहतर बनाता है और किसी के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। अभिषेक के अनुसार, मानसून की पहली बारिश के बाद नींबू लगाया जाना चाहिए। वे रोपण के लगभग 3 साल बाद अच्छे फल देने लगते हैं। अभिषेक इस काम में लोगों को भी लगाते हैं, जैसे कि मजदूरों। दूसरी ओर उनकी माँ और दादी अचार बनाती हैं। उन लोगों के लिए टेरेस खेती की सिफारिश की जाती है जिनके पास भूमि तक पहुंच नहीं है या जो शहरों में रहते हैं।

Lemon Tree on Terrace Garden: How to Grow and Take care | 9 Months Update |  Banani's Garden - YouTube