बिहार : हाई स्कूलों में प्रधानाध्यापक के पद पर बहाली होगी

0
13

डेस्क: सरकारी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को पुरस्कृत करने की प्रक्रिया अब सरल की जाएगी। अब बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) द्वारा आयोजित परीक्षा में माइनस मार्किंग का प्रावधान भी हटा दिया जाएगा। साथ ही परीक्षा का समय भी डेढ़ घंटे बढ़ाया जाएगा। शिक्षा विभाग इस संबंध में बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) को अनुशंसा भेजेगा। यदि बिहार लोक सेवा आयोग विभाग के प्रस्ताव को स्वीकार कर लेता है तो अगले माह होने वाली प्राचार्यों की नियुक्ति के लिए होने वाली परीक्षा में गलत उत्तर देने पर कोई अंक नहीं काटा जाएगा। इसके साथ ही उम्मीदवारों को 1.5 घंटे से अधिक का समय मिलेगा।

विभाग की मुख्य चिंता क्या है?

दरअसल विभाग को कुल 6421 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति के लिए आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा में मात्र 421 अभ्यर्थियों के सफल होने की चिंता सता रही है. इस तरह प्राचार्यों के छह हजार से अधिक पद रिक्त हैं। ऐसे में आयोग को दोबारा विज्ञापन देना पड़ा क्योंकि काफी हद तक अभ्यर्थी फेल हो गए। इसके लिए जल्द परीक्षा होगी।

नवंबर तक जीर्णोद्धार किया जाएगा

आधिकारिक सूचना के अनुसार बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा प्राचार्य पद के लिए चयनित एवं अनुशंसित अभ्यर्थियों की नियुक्ति नवंबर के अंतिम सप्ताह में विद्यालयों में की जायेगी. विभाग को लोक सेवा आयोग से आवश्यक तकनीकी जानकारी भी प्राप्त हुई है। विभाग चयनित उम्मीदवारों की काउंसलिंग के बाद पोस्टिंग करेगा।

जारी रखें पढ़ रहे हैं