घर पर ही गमले में उगाया जा सकता है कमल का फूल, बस अपनाने होंगे ये आसान टिप्स

    0
    28

    How to Grow Lotus Flower at Home – कमल के फूल के बिना श्री नारायण के हाथों की शोभ कम हो जाती है, क्योंकि उनके हाथों में हमेशा कमल का फूल देखा जाता है। यही वज़ह है कि भगवान विष्णु को कमल नयन कहा जाता है, कमल का फूल मुख्य रूप से तालाब या पोखर में उगता है।

    कमल दूसरे फूलों की प्रजाति से भिन्न है, क्योंकि इसको घर में उगना काफ़ी मुश्किल माना जाता है। यही वज़ह है कि लोग तालाब या पोखर से इस फूल को इकट्ठा करते हैं और मन मुताबिक दामों में बेचते हैं। लेकिन अगर आप चाहे तो इस खूबसूरत फूल को अपने गार्डन में उगा सकते हैं, वह भी नॉर्मल गमले में। Grow Lotus Flower at Home

    कमल के फूल का धार्मिक और सांस्कृतिक महत्त्व

    कमल को भारत का राष्ट्रीय फूल माना जाता है, जो हमारी संस्कृति और सभ्यात से जुड़ा हुआ है। भगवान विष्णु के अलावा माँ लक्ष्मी को भी कमल का फूल की अर्पित किया-किया जाता है, जिसकी वज़ह से इस फूल का महत्त्व सांस्कृतिक और धार्मिक रूप से काफ़ी ज़्यादा बढ़ जाता है।

    कमल का फूल हमें यह सीख देता है कि आसपास चाहे कितनी ही गंदगी और बुराई क्यों न हो, उसमें अच्छाई अपनी जगह तलाश कर ही लेती है। कमल का फूल सिर्फ़ तालाब या पोखर में ही नहीं खिलता, बल्कि इस फूल का पौधा कीचड़ में भी उग जाता है। यही वज़ह है कि कमल के फूल से इंसान को हमेशा सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है, इसलिए कई लोगों को यह फूल बेहद पंसद होता है।

    गमले में कमल का फूल उगाने की तकनीक (Growing Lotus Flower in Pot)

    आमतौर पर कमल की खेती स्थायी जल निकायों और पोखरों में की जाती है, जहाँ से इसे देश भर के फूल मार्केट में सप्लाई किया जाता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की रहने वाली संगीता श्रीवास्तव (Sangeeta Srivastava) अपने घर पर ही कमल की खेती कर रही हैं, जो उनकी बागवानी का मुख्य हिस्सा हैं। संगीता ने अपने घर की छत पर 100 से भी ज़्यादा पौधें लगा रखे हैं, जिनमें कमल का फूल भी शामिल है। उन्होंने कमल के फूल को गमले में उगाने की बहुत ही बेहतरीन तकनीक अपनाई है, जिसकी मदद से कोई भी व्यक्ति घर पर कमल का फूल उगा सकता है।

    संगीता श्रीवास्तव के अनुसार कमल के पौधे को दो तरीकों से उगाया जा सकता है, जिसमें पहला-कटिंग और दूसरा-बीज बोना है। अगर आप कटिंग के तरीके से कमल का पौधा उगाना चाहते हैं, तो इसके लिए पौधे को जड़ों से ही प्रोपेगट करके तैयार करना होगा। इस काम को बहुत ही सावधानी से करना पड़ता है, क्योंकि जरा-सी गलती होने पर कमल का पौधा पूरी तरह से खराब हो जाएगा और उसे गमले में नहीं उगाया जा सकेगा।

    कमल के पौधे को उगाने का दूसरा तरीक़ा है बीज बोना, इस प्रक्रिया के लिए आपको कमल के बीज, पारदर्शी ग्लास, दो गमले और चिकनी काली मिट्टी की ज़रूरत होगी। संगीता बताती हैं कि बाज़ार से कमल का बीज खरीदने के बाद उन्हें एक पारदर्शी ग्लास में पानी डालकर अंकुरित होने के लिए छोड़ दे। ग्लास में लगभग 1 से 2 हफ्ते तक पानी में भीगने के बाद कमल के बीज अंकुरित हो जाएंगे, जिसके बाद उन्हें गमले में बोने की तैयारी करनी होगी। इसके लिए एक गमले में चिकनी काली मिट्टी को गीला करके भरना होगा और फिर उसमें अंकुरित कमल के बीजों को बेहद सावधानी के साथ बो दें।

    इसके बाद दूसरे गमले में पानी भर कर रखें और कमल के बीज वाले गमले को उसके ऊपर रख दें। इस दौरान आपको यह ध्यान रखना होगा कि पानी वाला गमला आकार में बीज वाले गमले से बढ़ा होगा चाहिए और उसकी गहराई भी ठीक ठाक होनी चाहिए। पानी वाले गमले में पानी के ठहराव के लिए आप गमले के छेद को पत्थर या किसी मज़बूत पन्नी से बंद कर सकते हैं, ताकि कमल के बीजों को बढ़ने के लिए प्राप्त मात्रा में पानी मिलता रहा। इसके साथ ही कमल के पौधे को पनपने के लिए सही मौसम और वातावरण भी ज़रूरत होती है, इसलिए पौधे को बहुत ज़्यादा धूप या नमी न मिले इसका ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है।

    6 से 7 महीने में आने लगते हैं फूल (Lotus Flower)

    एक बार कमल के बीज बोने के बाद उका पौधा तैयार होने लगभग 1 से 2 हफ्तों का समय लगता है, जिसके बाद पौधे में 6 से 7 महीनों के अंदर कमल के फूल उगने लगते हैं। कमल का पौधा अच्छी तरह से पनपने इसके लिए कुछ ख़ास बातों का ध्यान रखना ज़रूरी होता है। गमले में मौजूद पानी के एक चौथाई हिस्से को हर 15 दिन बदलते रहना चाहिए, क्योंकि गंदे पानी में कीटाणु पैदा हो जाते हैं। ऐसे में अगर गंदे पानी के कीट पौधे से चिपक गए, तो वह अंदर ही अंदर उसे खाकर ख़त्म कर देंगे।

    कमल के पौधे का रखरखाव और देखभाल

    इसके साथ ही अगर कमल के पौधे की पत्तियाँ सड़ रही हों, तो उन्हें तुरंत पौधे से तोड़कर अलग कर देना चाहिए। क्योंकि सड़ी हुए पत्तियों वाला पौधा तेजी से बढ़ता नहीं है, जिसकी वज़ह से कमल का फूल आने में समय लग जाता है। आप चाहे तो पानी वाले गमले में छोटी-छोटी मछलियाँ रख सकते हैं, जो पानी को साफ़ रखने और गंदगी हटाने में मददगार साबित होती हैं। दरअसल मछलियाँ पानी में मौजूद गंदगी को खा जाती है, जिसकी वज़ह से पानी को बार-बार बदलने की ज़रूरत नहीं पड़ती है।

    अगर आप चाहते हैं कि कमल का पौधा तेजी से बढ़े, तो इसके लिए आप बोनमील या एनपीके का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन इन तत्वों को पानी में सीधे नहीं मिलना चाहिए, क्योंकि इससे पौधे को नुक़सान पहुँच सकता है। इस तरह की चीजों को किसी कपड़े में डालकर गांठ माकर पानी के अंदर रख देना चाहिए, जिससे कीट से बचाव होता है और कमल का पौधा तेजी से बढ़ता है। आप चाहे तो घर पर ही नीम और हल्दी का स्प्रे तैयार करके कमल के पानी में डाल सकते हैं, इससे भी पौधों में कीटाणु नहीं लगते हैं।

    कमल के फूलों से तैयार किए जा सकते हैं बीज (Lotus Seed)

    कमल के पौधे में 6 से 7 महीने में फूल आने लगते हैं, जिनके जरिए आप नया बीज बना सकते हैं और दोबारा से कमल के पौधे उगा सकते हैं। इसके लिए पौधे में फूल आने के बाद उसे पौधे से अलग करना होगा और फूल को धूप में कुछ घंटों को लिए सूखाना होगा। कमल का फूल सूखने के बाद उसके हल्की आंच में भून लें, इस तरह फूल से बीज अलग हो जाएंगे और उनसे नए गमलों में बो कर कमल की खेती की जा सकती है। इस तरह सिर्फ़ एक कमल के पौधे से ही आपके गार्डन में कई कमल के पौधे उगाए जा सकते हैं, बस आपको उन पौधों की सही देखभाल करनी होगी।

    बेहद उपयोगी होता है कमल का फूल (Grow Lotus Flower at Home)

    कमल का फूल सिर्फ़ तालाब, पोखर या गार्डन की खूबसूरती ही नहीं बढ़ाता है, बल्कि इसे कई तरह के कामों में इस्तेमाल भी किया जाता है। कमल के बीजों से मखाना बनाया जाता है, जो बहुत ही पौष्टिक और सेहतमंद खाद्य पदार्थ माना जाता है। मखाने में प्रोटीन, कैल्शियम, फास्फोरस समेत कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जिनका सेवन करने से व्यक्ति सेहतमंद बना रहता है। इसके साथ ही कमल के फूल का रस भी बहुत उपयोगी होता है, जो जले कटे या फिर चोट को सही करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

    कमल के फूल के तने को सब्जी या अचार बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि यह सेहत के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। जिन जगहों पर कमल की खेती की जाती है, वहाँ इसके तने को बिल्कुल भी बर्बाद नहीं किया जाता है। वही कमल के फूल को धार्मिक कार्यों और भगवान की प्रतिमा को अर्पित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

    अब तो आप समझ ही गए होंगे कि कमल का फूल (Lotus Flower) कितनी उपयोगी है, ऐसे में अगर आप इस फूल को अपने गार्डन में उगा लेते हैं तो आपको बहुत सारे फायदे हो सकते हैं। तो देर किस बात की, हमारे द्वारा बताए गए ट्रिप्स को फ्लो कीजिए और घर पर ही गमले में कमल का फूल उगाए।