इन्वर्टर की बैटरी की लंबी उम्र चाहते हैं, तो अपनाइए ये आसान टिप्स

0
848

Tips for Make Inverter Battery Life Long – दोस्तों, चाहे आप किसी बड़े शहर में रहते हों, या छोटे शहर में, पर आपको बिजली गुल होने की समस्या का सामना तो करना ही पड़ता होगा, क्योंकि यह हमारे देश की आम समस्या है। यह वज़ह है कि हर घर में इन्वर्टर एक ख़ास भूमिका अदा करता है और जिन स्थानों पर बिजली जाने की समस्या बनी रहती है, वहाँ पर तो इसकी अहमियत और ज़्यादा हो जाती है।

इस वज़ह से इन्वर्टर के साथ आपको इसकी बैटरी (Inverter Battery) का ख़्याल रखना भी अति आवश्यक होता है। अगर आप अपने इन्वर्टर की लंबी आयु चाहते हैं, तो आपको बैटरी की देखभाल अवश्य करनी चाहिए। यदि आप नियमित रूप से बैटरी की साफ-सफाई नहीं करेंगे और इसके दूसरे उपकरणों को उचित समय पर चेंज नहीं करेंगे, तो कुछ ही दिनों बाद आपकी बैटरी बिगड़ सकती है। यदि आपके घर में भी इन्वर्टर का उपयोग होता है, आर्टिकल आपके लिए बहुत काम का है, क्योंकि इसमें आज हम आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बता रहे हैं, जिनसे आप इन्वर्टर की बैटरी को बहुत सालों सुरक्षित रख सकते हैं (Increase Inverter Battery Life) , वह बिल्कुल खराब नहीं होगी, तो चलिए जानते हैं कैसे…?

बैटरी का वाटर लेवल चेक करते रहें

अगर आप चाहते हैं कि इन्वर्टर की बैटरी (Inverter Battery) ख़राब ना हो, तो उसके लिए एक बात का ध्यान रखना बहुत आवश्यक है-पानी के लेवल की नियमित रूप से जांच करना। आप नहीं जानते हों, तो आपको बता दें कि बैटरी में डिस्टिल्ड वाटर का प्रयोग होता है, जिससे बैटरी लंबे समय तक चलती रहती है, अतः बैटरी में पानी का लेवल ना तो ज़्यादा होना चाहिए और ना ही कम होना चाहिए। दूसरे पानी को इसमें डालने पर बैटरी शीघ्र ही बिगड़ सकती है, इसलिए आप हर 2 माह के भीतर वाटर लेवल को चेक ज़रूर कीजिए।

बैटरी चार्ज करने का भी रखिए ख़्याल

चाहे कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण क्यों ना हो, अगर उसकी बैटरी को ज़्यादा चार्ज किया जाए तो उसके शीघ्र ही खराब होने की संभावना रहती है। फिर वह आपके मोबाइल की बैटरी हो अथवा दूसरी किसी चीज़ की। इन्वर्टर की बैटरी में प्लेट्स लगी होती है, अगर इन्हें ज़्यादा चार्ज किया जाए तो यह प्लेट्स शीघ्र बिगड़ जाती है। अतः जब बैटरी पूरी चार्ज हो जाए तो स्विच बंद कर देना चाहिए। इसके अलावा अगर आप बैटरी को काफ़ी कम चार्ज करते हैं तो उससे भी बैटरी ख़राब होने की आशंका बनी रहती है, इसलिए आपको ध्यान रखना है कि बैटरी ठीक से चार्ज हो जाए पर ज़्यादा देर चार्ज ना करें।

टर्मिनल की नियमित सफ़ाई भी है ज़रूरी

इनवर्टर में बैटरी (Inverter Battery) का जो भाग करंट के लिए बिजली की तार से जोड़ते हैं, उस भाग को टर्मिनल कहते हैं। बहुत बार ऐसा भी हो जाता है कि इस टर्मिनल तथा इसके आसपास जंग लग जाती है, जिसकी वज़ह से बैटरी में करंट धीमी प्रभावित होने लगती है। जिससे बैटरी जल्दी बिगड़ सकती है, तो समय-समय पर टर्मिनल की सफ़ाई अवश्य करते रहें। टर्मिनल साफ़ करने के लिए पहले बिजली बंद कीजिए, फिर एक सूती कपड़ा लेकर उससे ठीक तरह से इसकी सफ़ाई कीजिए। हाँ, पर आपको एक बात का ध्यान रखना होगा कि टर्मिनल साफ़ करने के लिए पानी का प्रयोग मत कीजिए।

इन बातों का भी रखें ध्यान

ऐसा नहीं है केवल बैटरी में पानी नहीं डालने पर, ज़्यादा चार्ज होने या टर्मिनल की नियमित सफ़ाई ना होने पर ही बैटरी जल्दी खराब होती है। कई बार बैटरी पर ओवर लोड होने के कारण भी यह ख़राब हो जाती है। आप ज़्यादा वाट का बल्ब लगाने की बजाय किसी ऐसे बल्ब को चुनिए, जिससे कम वाट में भी ज़्यादा रोशनी मिले। इन्वर्टर के साथ बैटरी को उस स्थान पर रखना चाहिए। जहाँ पर नमी की मात्रा कम हो।