सरकार और तेल कंपनियों की मदद से शुरू किया ऑनलाइन डीजल बेचने का बिजनेस, सालाना 100 करोड़ की कमाई

0
201

Pepfuel Online Fuel Business – आज के दौर में युवा नौकरी से ज़्यादा कारोबार करने की चाह रखते हैं, क्योंकि इसमें कम लागत में ज़्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है। हालांकि कम समय में ज़्यादा पैसे कमाने के लिए यह बेहद ज़रूरी है कि आप सही व्यापार का चुनाव करें, क्योंकि छोटी-सी गलती कारोबार ख़त्म कर सकती है।

ऐसे में अगर आप एक अच्छे व्यापार की तलाश कर रहे हैं, तो ऑनलाइन फ्यूल बिजनेस (Online Fuel Business) अच्छा विकल्प साबित हो सकता है, जिसके जरिए डीजल बेचकर करोड़ों की कमाई की जा सकती है। आख़िर क्या है ऑनलाइन फ्यूल बिजनेस और इससे कैसे मिला युवाओं को फायदा, आइए जानते हैं-

क्या है ऑनलाइन फ्यूल बिजनेस (Online Fuel Business)

ऑनलाइल फ्यूल बिजनेस तेजी से आगे बढ़ रहा कारोबार है, जिसकी नींव तीन दोस्तों ने मिलकर रखती है। Pepfuel. com सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्टअप ऐप और वेबसाइट है, जिसका इंडियन ऑयल के साथ थर्ड पार्टी एग्रीमेंट है।

इस ऐप के जरिए ग्राहक ऑनलाइन मैसेज के जरिए फ्यूल ऑर्डर कर सकते हैं, जिसके जरिए डोर-टू-डोर फ्यूल की डिलीवरी की जाती है। इस ऐप को नोएडा के रहने वाले टिकेंद्र, प्रतीक और संदीप नामक तीन लड़कों ने मिलकर तैयार किया है, जिसके जरिए वह अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं।

ऐसे शुरू किया फ्यूल स्टार्टअप

आज के दौर में बिजनेस से ज़्यादा उसके आइडिया की वैल्यू होती है, जिसकी मदद से लाखों रुपए कमाए जा सकते हैं। फ्यूल स्टार्टअप ऐसा ही एक बिजनेस आइडिया है, जिसके जरिए ग्राहकों को घर-घर जाकर फ्यूल डिलीवर किया जा सकता है।

Pepfuel की नींव रखने से पहले टिकेंद्र, प्रतीक और संदीप ने काफ़ी रिसर्च की थी, वह लोगों के घर जाकर उसने बातचीत करते थे और ऑनलाइन फीडबैक के जरिए भी लोगों की ज़रूरत को समझने की कोशिश करते थे। इस फीडबैक के जरिए ही उन्हें फ्यूल डिलीवरी के लिए ऑनलाइन ऐप होने की मांग का पता चला था।

हालांकि साल 2016 तक देश में पेट्रोल डिलीवरी की परमिशन नहीं थी, जिसकी वज़ह से उस समय व्यापार शुरू करना मुश्किल था। लेकिन हाल ही में भारत सरकार ने ऑनलाइन फ्यूल डिलीवरी (Online fuel delivery) को मान्यता दे दी, जिसके बाद तीन दोस्तों की इस टीम ने ऑनलाइन फ्यूल डिलीवरी के लिए ऐप बनाकर स्टार्टअप शुरू कर दिया।

स्टार्टअप शुरू करने के दौरान ऑनलाइन फ्यूल डिलीवरी (Online fuel delivery) में सिर्फ़ डीजल बेचने की इजाज़त थी, ऐसे में उन्होंने रिस्क उठाते हुए डीजल की डिलीवर का काम शुरू कर दिया। लेकिन जल्द ही कंपनी को लोगों को अच्छा रिव्यू मिलने लगा, जिसकी वज़ह से फाउंडर्स का मनोबल बढ़ा और उन्हें स्टार्टअप को आगे बढ़ने की प्रेरणा मिली।

तेल कंपनियों और सरकार ने की मदद

कंपनी के फाउंडर बताते हैं कि Pepfuel की शुरुआत करने के लिए हमने इंडियन ऑयल कॉपोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉपोरेशन लिमिटेड समेत बड़ी तेल कंपनियों को फ्यूल बेचने के सुझाव भेजे थे, जिसके बाद कंपनियों ने उनकी मदद करने के लिए हाथ आगे बढ़ाया।

इसके साथ ही उन्होंने अपने स्टार्टअप के लिए PMO को भी आइडिया भेजा था, जिसके कुछ दिन बाद ही PMO का जवाब आ गया था। इस तरह सरकार और फ्यूल कंपनियों की मदद से Pepfuel स्टार्टअप को शुरू करने के लिए मदद मिली, जिसके दम पर आज कंपनी 100 करोड़ का कारोबार कर रही है।

कंपनी के फाउंडर्स ने बताया कि फरीदाबाद में स्थित इंडियन ऑयल की तरफ़ से भी हमें कारोबार की डिटेल्स भेजने का मैसेज आया था, जिसके बाद उन्होंने हमारे प्रोजेक्ट को अप्रूव कर दिया और हमने ऑनलाइन फ्यूल डिलीवरी का बिजनेस शुरू कर दिया।

वर्तमान में Pepfuel कंपनी का सालाना टर्नओवर 100 करोड़ के आसपास पहुँच चुका है, जो अपने आप में बहुत बड़ी कामयाबी है। कंपनी के फाउंडर्स ने मुश्किल से इस कारोबार में अपने पैसे लगाए होंगे, क्योंकि उन्हें फ्यूल कंपनियों और सरकार से मदद मिल गई थी। Pepfuel Online Fuel Business