2018 में 5 लाख की इन्वेस्टमेंट से शुरू की थी कंपनी आज है 50 लाख का टर्नओवर

0
485

सफलता की सीढ़ी का पहला कदम जोख़िम होता है। बस आपमें लगन होनी चाहिए कुछ कर दिखाने की। ऐसा ही एक प्रेणात्मक सफर है मध्यप्रदेश के छोटे से शहर सरलानगर की रहने वाली कैरोलीन गोमेज़ की। कैरोलीन के माता पिता काफ़ी अतिसंरक्षित स्वभाव के थे पर उनके पिता के अचानक निधन के बाद मानो उनकी जिंदगी ही बदल गई। कैरोलीन ने अपनी कंपनी रीव्स क्लीव साल 2018 में शुरू की थी। उस समय उन्होंने कंपनी में 5 लाख रुपए इन्वेस्ट किये थे अब आज उनका टर्न ओवर 50 लाख रूपए तक है।

कैरोलीन बताती हैं कि उनके माता पिता इतने सख़्त थे कि वो स्कूल ट्रिप पर भी नहीं जा पातीं थीं। कैंसर की वजह से उन्होंने अपने पिता को खो दिया था। उस समय उनके पिता की उम्र 55 साल थी। अपने पिता के देहांत के बाद वो काफ़ी परेशान हो गईं थीं। इसी वजह से वो मध्यप्रदेश से मुंबई आ गईं। यहाँ आकर उन्होंने एक कंपनी में लगभग डेढ़ साल तक काम भी किया। उसके बाद उन्होंने UK जाकर अपनी मास्टर्स की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी (Lancaster University UK) से फाइनान्स सेक्टर में मास्टर्स कम्पलीट किया।

इंडिया वापिस आने के बाद उन्होंने 40 हज़ार के मासिक वेतन पर 14 महीने तक काम किया। इस नौकरी को छोड़ने के बाद साल 2018 में, 28 की उम्र में उन्होंने रीव्स क्लीव नामक अपनी ब्यूटी प्रोडक्ट्स की कंपनी खोली। उनकी कंपनी ज्यादातर आयल, शैम्पू बॉडीवाश जैसी चीजें बनाती है। उनकी कंपनी ने साल 19-20 में तकरीबन 50 लाख के टर्नओवर को टच किया था।

अब कैरोलीन अपना बिज़नेस दिल्ली से चलातीं हैं। आपको बता दें कैरोलीन के माता पिता दोनों ही सरलानगर के हाई स्कूल में टीचर थे। उनकी माँ मैरी विक्टोरिया गोमेज़ काफ़ी समय तक स्कूल मैं शिक्षिका थीं अब वह वहाँ की प्रिंसिपल हैं।