कंप्यूटर से भी तेज़ दिमाग है इनका, मिलिए 55 साल की गूगल बेबे से

0
158

दुनिया भर में कई सारे लोग हैं जो अपनी प्रतिभाओं से अचंभित करते रहते हैं। हाल में आपने यंगेस्ट ग्रेजुएट माइकल कियरनी के बारे में तो सुना ही होगा, या फिर 8 साल के कौटिल्य के बारे में जिसे सभी गूगल बॉय बुलाते हैं। लेकिन अब आपको बतातें है भारत की गूगल बेबे के बारे में। जी, अपने देश में सिर्फ गूगल बॉय ही नही गूगल बेबे भी हैं। पंजाब के फतेहगढ़ साहिब जिले के मनैला गांव में कुलवंत कौर नाम की की एक महिला रहतीं हैं। वे 55 साल की एक ऐसी महिला हैं जिनका दिमाग कंप्यूटर से भी तेज चलता है। कुलवंत कौर हर सवाल का जवाब गूगल के सर्च इंजन जैसा फ़ास्ट देतीं हैं। उन्हें कई हजारों सवालों के जवाब मुंहज़ुबानी याद हैं।

कुलवंत एक जमींदार परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनका ज्ञान का पिटारा कुछ टॉपिक तक सीमित नहीं है। बल्कि उन्हें कई धर्मों के बारे में भी अच्छी जानकारी है इन्में में शामिल है हिन्दू, ईसाई, इस्लाम, बोधी, यहूदी और सिख इत्यादि, बेबे धर्म गुरुओं के उपदेशों तथा लिखित वाणियों आदि की जानकारी भी मुंहज़ुबानी याद रखती हैं।

यूं तो गूगल बेबे उर्फ कुलवंत कौर सिर्फ 4th क्लास तक पढ़ीं हैं, पर इसके अलावा उन्हें कई ग्रंथों का ज्ञान है। बेबे ने बताया कि जब उनका परिवार आगरा में रहता था तब उनके पिता के मित्र उनके घर आकर पिता के साथ घँटों अनेकों धर्म पर चर्चा करते थे। तभी बेबे और उनके भाई-बहन उनके साथ बैठ कर उनकी बातें सुनते थे, तभी से उन्हें इतनी बातें याद हो गईं।

बेबे ने बताया कि जब भी वो कोई किताब एक बार पढ़ लेतीं तब उन्हें दोबारा पढ़ने की ज़रूरत नहीं पड़ती।  कस्बे के लोगों की माने तो बेबे को अक्सर बच्चों के स्कूल में विशेष तौर पर  बुलाया जाता है, बच्चों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब वह पलक झपकते दे देतीं हैं।

आपको बता दें बेबे के पिता प्रीतम सिंह पेशे से इंजीनियर थे। उनका जन्म पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था। वो रोजगार के सिलसिले में आगरा आए थे वहीं बेबे का जन्म हुआ था। आगरा से ही बेबे ने चौथी कक्षा तक की पढ़ाई की थी उसके आगे की पढ़ाई वह पारिवारिक समस्या की वजह से आगे नहीं पढ़ पाईं।