हौसले के बल पर बनाई पहचान, मिलिए भारत की सबसे छोटे कद की वकील से

0
667

जब हौसले बुलंद हो तो कामयाबी ज़रूर मिलती है। यह सच है कि जिंदगी में सभी कुछ नहीं मिलता, मगर कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्‍हें भले ही बहुत कुछ न मिला हो, मगर वह अपने हौसलों के बल पर अपने सपनों को पूरा करके दिखाते हैं। ऐसी ही एक प्रेरित करने वाली कहानी है अधिवक्ता हरविंदर कौर की। यूं तो हरविंदर कौर कौर काबिलियत में किसी से कम नहीं, मगर उनके कद की वजह से अक्‍सर उन्‍हें लोगों के ताने सुनने पड़े। 24 साल की हरविंदर की हाइट महज 3 फिट, 11 इंच है। मगर इसके बावजूद उन्‍होंने इसे अपने लक्ष्‍य के आड़े नहीं आने दिया और अपने सपनों को न सिर्फ पूरा किया, बल्कि अपने साहस के जरिये अपने जैसे अन्‍य लोगों के लिए प्रेरणा बन गईं।

हरविंदर कौर उर्फ़ रूबी हरियाणा में रामामंडी की रहने वाली हैं। उन्होंने बताया कि जब वे बहुत छोटी थी, तभी से उन्होंने एयर होस्टेस बनने का सपना देखा था, परंतु हाइट कम होने की वज़ह से एयर होस्टेस बनने का उनका सपना अधूरा रह गया था। उन्होंने बताया की बचपन से ही उनकी हाइट ग्रोथ औरों से कम थी। काफ़ी सरे डॉक्टरों से दिखवाने के बाद, मेडिटेशन थेरेपी करवाने के बाद भी कोई ख़ास असर नहीं हुआ। लोगों के मजाक से बचने के लिए उन्‍होंने खुद को कमरे में बंद करना शुरू कर दिया था। पर तब भी उनके हौसलों ने उनका साथ नहीं छोड़ा और उन्‍होंने वकालत के पेशे में आने का फैसला किया। अब उनका सपना जज बनने का है।

यह सफर आसान नहीं था

हरविंदर का कद छोटा होने की वज़ह से अक्सर लोग उनका मज़ाक उड़ाया करते थे। उनसे कहा जाता था कि उनसे यह नहीं होगा। इस प्रकार से लोगों के ताने और उनकी बातों को नजरअंदाज करके उन्होंने सोच लिया था कि अब वे जीवन में कुछ बनकर दिखाएंगी। अपनी 12वीं की पढाई पूरी करने के बाद उन्होंने फैसला किया कि उन्‍हें लॉ फील्ड में करियर बनाना है, इसके लिए उन्‍होंने हर ओर से ध्‍यान हटा कर अपनी पढ़ाई पर ध्‍यान दिया और आज वह अपने हौसलों के दम पर न सिर्फ कामयाब हैं बल्कि दूसरों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत भी हैं।