ऑपरेशन के लिए बचाए थे पैसे, चूहों ने कुतर डाले

0
483

बढ़ती महंगाई में पैसे बचाना यानी सेविंग्स करना कोई आसान बात नहीं है। एक तो कितनी मुश्किलों के बाद इंसान को नौकरी मिलती है उसमें भी बचत करना बहुत बड़ी बात है। आदमी बचाय हुए पैसे को बुरे वक्त के लिए संजो के रखता है। अब अगर ऐसे में उसके साथ धोखाधड़ी या पैसे चोरी हो जाये या फिर कही गुम हो जाये तो उस व्यक्ति पर क्या बीतेगा इसका अंदाज़ा लगाना बहुत ही कठिन है।

यूं तो पैसों की चोरी या नुकसान के कई मामले आपने सुने पढ़े होंगें, पर आज जो किस्सा हम आपको बताने जा रहें हैं उससे आपके होश उड़ जाएंगे। इसको पढ़ कर आप भी सतर्क हो जाइये। बढ़ती महंगाई में एक गरीब किसान के जीवन भर की पूंजी का चूहों ने नाश कर दिया। अपने पेट के ऑपरेशन के लिए उसने कुछ पैसे जुटाए थे जिसे चूहे कुतुर गए।

दरअसल यह मामला तेलंगाना के  इंदिरानगर के वेमनूर गाँव का है। रेड्डी नायक पेशे से एक छोटे किसान हैं और सब्जी बेच बेच कर उन्होंने बहुत ही मुश्किल से दो लाख रुपये अपने पेट के ऑपरेशन के लिए जमा किये थे। उनके पूरे 2 लाख रुपये चूहों ने काट डाले। इस बात से उस बेचारे किसान का हौसला ही टूट गया।

रेड्डी के मुताबिक उन्होंने कुछ राशि अपने मिलने जुलने वालो से कर्ज लिया और बाकी का इंतज़ाम बहुत ज्यादा मेहनत करके किया। उन्होंने सारे पैसे अलमारी में एक कपड़े के बैग में रखे थे। कुछ दिनों बाद जब उन्होंने पैसे देखने के लिए अलमारी खोली तो वहाँ पैसे नहीं बल्कि चूहों द्वारा कुतरे हुए नोट के टुकड़े दिखाई दिए। इसको देखेने के बाद तो उनके होश ही उड़ गए।

हालांकि उन्होंने अभी हार नहीं मानी है। रेड्डी ने कई बैंक के चक्कर काटे पर सभी बैंकों ने उनकी मदद करने से मना कर दिया। बैंक का कहना है कि रिजर्व बैंक की नीति के अनुसार पुराने कटे फ़टे नोटो को बदलने का नियम है पर ऐसे चूहों द्वारा कतरे गए नोटो को बदलने का कोई विकल्प नहीं है।

कुछ व्यापारिक संस्थानों ने रेड्डी नायक को रिजर्व बैंक हैदराबाद में इस मामले को रखने की सलाह दी है। हालांकि इस मामले में उनको सहायता मिले इसके आसार कम ही नज़र आ रहे हैं।