बिना कोचिंग किए बनी आईएएस अफसर, घर और बच्चे भी संभालतीं थीं।

0
228

अथक प्रयासों से सफलता जरूर प्राप्त होती है बहके परीक्षा कितनी भी कठिन हो।भारत में सबसे मुश्किल परीक्षा है UPSC। हर वर्ष लाखों की संख्या में उम्मीदवार इस परीक्षा में बैठते है पर कुछ ही का चयन हो पाता है।परीक्षा में उतीर्ण होने के लिए बहुत मेहनत करनी होती है। चनयनित उम्मीदवारों का कहना यही होता है कि उन्होंने बहुत कड़ी मेहनत की 16-18 घँटों तक पढ़ाई की। UPSC उतीर्ण उम्मीदवारों के कई उद्धरणों में से एक हैं आईएएस पुष्पलता।

पुष्पलता ने UPSC की परीक्षा ऐसे समय में पास की जब उनके पास उनके घर और बच्चे की जिम्मेदारी थी। साल 2018 में पुष्पलता ने 80वीं रैंक हासिल की थी। अपने 2 साल के बच्चे का देखभाल करते हुए परीक्षा की तैयारी की। तो आइए जानते है उनके सफर ओर संगर्ष के बारे में ।

आईएएस पुष्पलता हैदराबाद में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में असिस्टेंट मैनेजर के पोस्ट पर कार्यरत थीं। इस नौकरी के दौरान उनको एहसास होने लगा था कि उन्हें समाज के लिए कुछ करना है इसीलिए उन्होंने UPSC की परीक्षा देने का निश्चय किया। उन्होंने जब तैयारी शुरू की तो उनके पता था यह बहुत कठिन है फिर भी उन्होंने तैयारी की और मुकाम हासिल किया।

नौकरी से दिया इस्तीफा।
अपने इंटरव्यु में पुष्पलता ने बताया था UPSC के लिए साल 2015 में उन्होंने अपनी बैंकर की नौकरी छोड़ दी थी। परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए उन्हें दिन रात पढ़ाई करनी होगी। आपको बता दें उन्होंने सेल्फ स्टडी करके परीक्षा का सफ़र तय किया।

पहली प्रयास में हुईं थी
साल 2017 में उन्होंने पहली बार परीक्षा दी थी पर असफल हुईं थीं। वह सात नंबरो से चूक गईं थीं। इसके बाद भी उन्होंने आस नहीं छोड़ी और मैं निरंतर प्रयास करते रही। उन्होंने बताया कि इसी समय उन्हें फैमिली सपोर्ट भी मिलना बंद हो गया था।

2018 में पाई सफलता
2 साल के प्रयास के बाद भी उन्हें सफलता प्राप्त नहीं हुई और परिवार की उम्मीद भी ख़त्म हो गई थी पर पुष्पलता के प्रयास और विश्वास से उन्होंने 2018 में इस परीक्षा को पास किया और उन्हें 80वीं रैंक प्राप्त हुई। अपनी कड़ी मेहनत के दम पर उन्होंने यह मुकाम हासिल किया और आज वह IAS के पद पर तैनात हैं।