पेट्रोल के दाम में हो रहे इजाफ़े से परेशान होकर बाइक को बनाया इलेक्ट्रिक बाइक, यह हैं इसके फ़ायदे

0
95

देश में महंगाई के बादल बढ़ते जा रहें हैं। ऐसे में पेट्रोल और डीज़ल के दामों में लगातार हो रहे इजाफ़े से सभी परेशान हैं। यही कारण है की लोग अब अपने पर्सनल व्हीकल छोड़ पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करने पर मजबूर हो गए हैं। साथ ही पब्लिक ट्रांसपोर्ट के फेयर भी महंगे हो गए हैं। तो इस सन्दर्भ में आपको बताते हैं एक ऐसे व्यक्ति के बारे में जिन्होंने पेट्रोलियम की बढ़ती कीमत से तंग आकर परेशान होकर पेट्रोल बाइक को Electric Bike में बदलने का कारनाम कर दिखाया है।

इनका नाम है क़ुरापति विद्यासागर। क़ुरापति तेलंगाना के रहने वाले हैं। किसी भी अन्य व्यक्ति की तरह कुरपति भी पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से काफ़ी ज़्यादा परेशान हैं। इसके उपाय में उन्होंने अपनी पेट्रोल से चलने वाली बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक बदल दिया। दरअसल क़ुरापति की आमदनी कोरोना लॉकडाउन की वजह से कम हो गई थी और वो पहले से ही आर्थिक तंगी का सामना कर रहे थे। ऐसे में बढ़ती मंहगाई में परिवार का भरन पोषण करना उनके लिए काफी मुश्किल हो गया था। अब इसमें एक और मुसीबत थी तेल की बढ़ती कीमतें जिससे यातायात में भी मुश्किलें आ रहीं थीं। विद्यासागर कम आमदनी में घर ख़र्च और पेट्रोल की बढ़ती क़ीमत का भुगतान नहीं कर सकते हैं, इसलिए उन्होंने अपनी बजाज डिस्कवर मोटर साइकिल को इलेक्ट्रिक बाइक में तब्दील कर दिया।

खुद का रिपेयरिंग सेंटर चलाते हैं विद्यासागर

क़ुरापति विद्यासागर का खुद का एक रिपेयरिंग सेंटर है। मगर लॉकडाउन की वजह से उनका सेंटर काफी समय तक बंद था। इस दौरान उनके पास आमदनी का कोई जरिया नहीं था, जिसके कारन उन्हें आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। इसके अलावा विद्यासागर को घर से रिपेयरिंग सेंटर तक जाने के लिए रोजाना 2 लीटर पेट्रोल ख़र्च करना पड़ता है, जिसके लिए उन्हें काफ़ी ज़्यादा क़ीमत चुकानी पड़ती है। दूसरी बात यह थी की पेट्रोल डीज़ल के बढ़ते दाम के कारण लोगों ने गाड़ियों का इस्तेमाल कम कर दिया है, इस वजह से उन्हें मुनाफा नहीं हो रहा था। तब उन्होंने अपनी दुकान बंद करने का निर्णय ले लिया पर इसके अलावा उन्हें कोई दूसरा काम नहीं आता।

ऐसे तैयार की बाइक

यातायात के खर्चो को कम करने के लिए उन्होंने कुछ अलग करने का सोचा। बुरे हालातों से हार मैंने के बजाए उन्होंने अपनी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में बदलने का फैसला किया। यह भी आसान नहीं था, इसके लिए उन्होंने थोड़े पैसे उधार लिए और 7, 500 में उन्होंने ऑनलाइन एक ऐसी मशीन खरीदी, जिसने उनकी मोटरसाइकिल को इलेक्ट्रिक बाइक में बदल दिया। इस मशीन को विद्यासागर ने बाइक की पेट्रोल टैंक के फीट कर दिया और उसके साथ चार 30AS कैपेसिटी वाली बैटरी को भी जोड़ा। आपको बता दें यह बैटेरी फुल चार्ज होने में 5 घंटे का समय लेती है, और इसमें बस एक एक यूनिट बिजली ख़र्च होती है।

अब आपको लगेगा यह बाइक कितना ही माइलेज देती होगी। मगर आप जान कर हैरान हो जायेंगे की यह इलेक्ट्रिक बाइक एक बार फुल चार्ज होने पर 50 किमी तक की माइलेज देती है। इस फायदे से लंबा सफ़र तय करने में काफ़ी सुविधा होती है।

विद्यासागर को पहले पेट्रोल वाली बाइक चलाने में रोजाना 200 रुपए ख़र्च करने पड़ते थे, लेकिन अब वह इलेक्ट्रिक बाइक के लिए 10 रुपए प्रति यूनिट ख़र्च कर रहे हैं। पेट्रोल और इलेक्ट्रिक बाइक के बीच ख़र्च के इस अंतर को आप भी आसानी से समझ सकते हैं, ऐसे में आप भी इलेक्ट्रिक बाइक का इस्तेमाल करके पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से निजात पा सकते हैं।