सामने आई पुनर्जन्म की अजब कहानी, इस बच्चे ने बताई मरने की कहानी

0
808
  1. आये दिन हमलोग अक्सर अजूबों के बारे में सुनते ही रहते हैं। कुछ किस्सों को हम पढ़ कर आनंदित महसूस करते हैं तो कुछ पर हम सोच विचार करते हैं और लगता है क्या ऐसा हो सकता है ? असल में उत्तर प्रदेश से कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है। कहानी कुछ ये है की उत्तर प्रदेश के मैनपुर गांव से पुनर्जन्म का एक मामला सामने आया है।

19 अगस्त को मृतक लड़के के पिता के पास एक लड़का मिलने आया और उनसे मिल कर खुद को वही लड़का बताने लगा जिसकी 8 साल पहले मृत्यु हो चुकी थी। इस लड़के का नाम चंद्रवीर और यह दावा कर रहा है कि उसका पुनर्जन्म हुआ है। चंद्रवीर ने अपना पुनर्जन्म होने दवा तो ही साथ उसने गांव के सभी लोगों की पहचान भी की।

अब इसका इतिहास यह है कि 8 साल पहले मैनपुरी जिले के नगला सलेही गांव में रहने वाले प्रमोद कुमार श्रीवास्तव के 13 साल का बेटे रोहित कुमार की मौत नहर में नहाते वक़्त डूबने से हो गई थी। प्रमोद के केवल दो ही बच्चे थे एक बेटी और बेटा जिसमें 2013 में बेटे की मौत हो गई थी। अपने बेटे के मरणोपरांत प्रमोद एवं उसकी पत्नी ऊषा देवी अपनी बेटी कोमल के साथ रहते है।

अब 8 साल बाद नगला अमर सिंह गांव में रहने वाले रामनरेश शंखवार के बेटे चंद्रवीर शंखावर उर्फ छोटू का कहना है, कि वो रोहित कुमार श्रीवास्तव है और रामनरेश शंखावर के घर उसका पुनर्जन्म हुआ है। 19 अगस्त 2021 को चंद्रवीर नगला सलेही गांव आया और अपने परिवार एवं गांव वालों को सही से पहचान लिया और उनके साथ बैठकर अपने पिछले जन्म की बात करने लगा। देखते ही देखते गांव के सभी लोग चंद्रवीर की बात सुनने के लिए इक्ट्ठा हो गए और पिछले जन्म की बातें छोटू से पूछने लगे।

बातचीत के दौरान चंद्रवीर के पीटना ने बताया की वो (छोटू) बचपन से पुनर्जन्म की बातें करता था और हमेशा नगला सलेही आने की जिद्द किया करता था। लेकिन हमारा बेटा हमसे दूर न हो जाए इस डर से हम उसे नगला सलेही गांव नहीं लाते थे, लेकिन बेटे की जिद के आगे मजबूर होकर छोटू को प्रमोद के घर लेकर आए हैं।

इन सब के बीच नगला गांव के प्रधानाध्यापक सुभाषचंद्र भी वहां भीड़ देखकर आए तब चंद्रवीर ने उनका पैर छुआ और बताया कि यह तो सुभाष मास्टर साहब है, हमारे स्कूल के प्रधानाध्यापक जिसे सुन कर वो खुद हैरान रह गए। जिसके बाद चंद्रवीर को रोहित के स्कूल ले जाया गया। जब स्कूल के शिक्षकों ने उससे पूछा कि रोहित कौन सी कक्षा में पढ़ता था,तो उसने सब कुछ सही सही बताया। अब तो चंद्रवीर के पुनर्जन्म का किस्सा क्षेत्र में तेजी से फैल रहा है। इलाके में हर कोई चंद्रवीर के बारे में जानना चाहता है।