हादसे में खोए दोनों पैर पर जिंदगी से नहीं मानी हार, संभाला खुद को और यूँ बीता रहीं जिंदगी

0
160

जिंदगी में कई बार हमे ऐसी स्थिति में पड़ जातें हैं जो की हमें निराशा से घेर लेता है। अक्सर ऐसी घटनाओ के बाद मनुष्य सारी आशा खो बैठ और निराश होकर साडी उमीदें खो बैठता है। साथ ही अपनी आगे की जिंदगी मायूसी में गुजारते हैं। ऐसे समय में हमें ज़रूरत होती है पोसिटिव सोच की। यदि हम हौसला और हिम्मत रखेंगे तो ज़रूर इन बुरे हालातों से निकल सकते हैं। एक बात हमेशा ध्यान में रखना चाहिए की हमें पॉजिटिव होकर अपनी लाइफ में बढ़ते रहना चाहिए, चाहे कैसी भी परिस्थिति हो। इन्हीं बातों को रियल लाइफ में सच कर दिखाया है एक योगा टीचर ने। ऐसे हालातों की वो जीती जागती उदाहरण हैं।इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तसवीर जम के वायरल हुई है जिसमें दिख रहा बिना पैरों की एक महिला किसी स्कूल में योगा टीचर हैं और खुशी से जीवन यापन कर रहीं हैं।

एक हादसे में गवाए दोनों पैर

सोशल मीडिया साइट ट्विटर के एक यूज़र शुभम जैन ने दो तस्वीरे शेयर की हैं।इन वायरल फोटोज को देख सबके होश उड़ जाएंगे। शुभम ने इस फोटो को शेयर करते हुए एक इमोशनल नोट भी लिखा।दरअसल शेयर्ड फ़ोटो एक लड़की की है जिसने दुर्घटना में अपने दोनों पैर गवा दिए थे। अब वही लड़की योगा टीचर बन गई है। यह पोस्ट शेयर होने के बाद खूब वायरल हुआ। लोग इसकी वाहवाही करते नहीं थक रहे हैं।

इस पोस्ट को शेयर करते हुए शुभम जैन ने अपने हैंडल पर लिखा, ‘आशा की प्रेरणा! यह लड़की पश्चिम बंगाल की 35 वर्षीय अर्पिता रॉय योग प्रशिक्षक हैं। 2006 में एक भीषण दुर्घटना में उसने अपने पैर गंवा दिए और अब वह लोगों को योग का प्रशिक्षण देती है. ईश्वर आपको और अधिक शक्ति दें.’ पोस्ट लोगों के दिलों को छू गया। इस ट्वीट पर एक यूजर ने लिखा, ‘अर्पिता रॉय को उनकी योग प्रयासों के साथ समाज और दुनिया में मूल्य जोड़ने के दृढ़ संकल्प के लिए सलाम।