20-25 लोगों के बीच घिर गये थे अजय देवगन, 200 फाइटर्स लेकर पिता वीरू देवगन पहुंचे थे बेटे को बचाने

0
9

अपने दमदार एक्शन और डायलॉग डिलीवरी के लिए जाने जाने वाले बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अजय देवगन बीते तकरीबन 30 सालों से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा रहे हैं| और इन्होंने इतने लंबे वक्त से लाखों लोगों के दिलों को जीता है| वही अगर बात करें अजय देवगन के पिता वीरू देवगन की तो अभी अपने वक्त के लोकप्रिय एक्शन डायरेक्टर हैं और उन्हीं से अजय देवगन को कहीं ना कहीं काफी कुछ सीखने को मिला है|

बात करें अगर अजय देवगन की फिल्मी करियर की तो साल 1991 में इन्होंने फिल्म फूल और कांटे के जरिए बॉलीवुड में कदम रखा था जिसके बाद अपनी पहली ही फिल्म ने इन्हें रातो रात एक सुपर स्टार बना दिया| अपनी डेब्यू फिल्म मैं ही इस कदर कामयाब हुए अभिनेता को इस फिल्म के बाद कई एक से बढ़कर एक फिल्मों में देखा गया जिनमें अजय देवगन ने अपने दमदार एक्शन और एक्टिंग का जलवा जारी रखा|

अजय देवगन को वैसे तो कई बार अपने फिल्मों में गुंडों की पिटाई करते हुए देखा होगा लेकिन हम आपको आज की अपनी इस पोस्ट के जरिए अजय देवगन की असल जिंदगी से जुड़े एक ऐसे किस्से के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी आपको शायद ही जानकारी होगी…

इस बात का खुलासा शो यारों की बारात के एक एपिसोड में हुआ था जिसमें अभिषेक बच्चन, अजय देवगन संजय दत्त एक साथ पहुंचे थे| इस शो को बॉलीवुड अभिनेता रितेश देशमुख और साजिद खान होस्ट कर रहे थे और इसी दौरान बातचीत मैं साजिद खान ने इस बात का जिक्र किया था|

साजिद खान ने बताया के एक वक्त अजय देवगन के पास एक जीप हुआ करती थी जिसमें वह सभी घूमा करते थे| उन्होंने बताया के हॉलिडे होम के पास एक पतली गली थी जिसमे वो जीप से जा रहे थे और उसी बीच एक बच्चा पतंग के पीछे भागता हुआ उनके सामने आ गया जिसे देख उन्होंने तुरंत ही ब्रेक मार दिया|

उस वक्त बच्चे को कोई चोट तो नहीं आई पर इसके बाद वः सहम कर रोने लगा था| ऐसे में थोड़ी देर में आसपास के कई सारे लोग इकट्ठा हो गए और उनकी जीप को घेर लिया| इसके बाद अजय देवगन ने बताया क्यों उन्होंने अपनी लाइफ में कई बार मारपीट की है लेकिन इस घटना में लगभग 20 से 25 लोगों ने एक साथ उन्हें मिलकर मारा था|

इसके बाद साजिद खान ने आगे बताया के लोगों ने उनसे कहा पुत्रों अमीर लोग तुम लोग तेज गाड़ी चलाते हो| इस दौरान उन्हें यह समझ नहीं आया के लोग उस वक्त काफी गुस्से में थे| लेकिन मौके पर अजय देवगन के पिता वीरू देवगन को इस बात का पता चल गया इसके बाद लगभग 150 से 200 लोगों को लेकर वो वहां पहुंच गए जिसके बाद मामला शांत हुआ| अजय देवगन के पिता वीरू देवगन वहां पहुंचते ही काफी गुस्से में बोले- कौन है जिसने मेरे बेटे को हाथ लगाया है?