करनाल महापंचायत में रॉड-लाठी लेकर पहुंचे कुछ लोग, महौल बिगाड़ने की मंशा, प्रशासन की चेतावनी

0
37

करनाल में 28 अगस्त को सीएम के दौरे का विरोध कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज किया गया था, अब इसी के विरोध में किसान करनाल में महापंचायत के लिए जुटे हैं ।

New Delhi, Sep 07: हरियाणा का करनाल शहर छावनी में तब्‍दील हो गया है, यहां आज किसानों की महापंचायत हो रही है । करनाल जिला प्रशासन और पुलिस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि इंटेलीजेंस रिपोर्ट है कि लोग लाठी, जेली, लोहे की रॉड से लैस होकर अनाज मंडी पहुंचे हैं। ऐसे में पुलिस और प्रशासन ने किसान नेताओं से बात कर ऐसे उत्‍पाती त्‍त्‍वों को कार्यक्रम स्थल छोड़ने के लिए मनाने को कहा है । करनाल जिला प्रशासन ऐसे लोगों को बख्‍शेंगे नहीं, इनसे सख्ती से निपटने की तैयारी कर दी गई है ।

अराजकता फैलाने की कोशिश के लिए लिए गए पैसे
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने अराजकता की संभावना के वलते कहा कि उन्हें लगता है Karnal Kisan (2)कि गुरनाम चढूनी ने हरियाणा में लगातार अराजकता पैदा करने के लिए कांग्रेस से पैसा लिया है। वे इसे तब तक जारी रखेंगे जब तक कि कुछ निर्दोष किसानों की जान नहीं चली जाती। हरियाणा के कुछ किसान समझ गए हैं कि यह सब राजनीति है। आपको बता दें किसान नेता राकेश टिकैत और योगेंद्र यादव भी महापंचायत में पहुंच गए हैं ।

हजारों की संख्‍या में जुटे हैं किसान
वहीं करनाल अनाज मंडी में आयोजित महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष गुरनाम चढूनी भी पहुंच चुके हैं । यहां हजारों की संख्या में किसान पहुंचे हैं। जिले में सुबह से झमाझम बरसात हो रही है, लेकिन किसान कार्यक्रम स्‍थल तक आने से नहीं चूके । किसान संगठन नई अनाज मंडी में महापंचायत व जिला सचिवालय के घेराव के लिए एकत्रित हुए। वहीं पुलिस ने अनाज मंडी के बाहर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है।

सुरक्षा चाक-चौबंद
महापंचायत के मद्देनजर करनाल में सुरक्षा चाक चौबंद की गई है, आसपास के जिलों समेत इंटरनेट सेवा बंद की हुई है । करनाल समेत कुरुक्षेत्र, जींद, पानीपत और कैथल में सात सितंबर रात 11: 59 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद रहेगा नई अनाज मंडी से सटे सेक्टर-3 स्थित औद्योगिक क्षेत्र को कंटीले तार और बांसों से सील कर दिया गया ताकि अनाज मंडी से किसी भी तरफ से किसान निकल न पाएं। पुलिस को आशंका है कि किसान माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर सकते हैं । शहर से जिन रास्तों से जीटी रोड पर चढ़ा जा सकता है, उन सभी जगहों पर बड़ी संख्या में बैरिकेड रख दिए गए हैं। महापंचायत के बाद किसानों का अगला लक्ष्य लघु सचिवालय पहुंचने का है।