सेलेब्रिटी होने के नाते हमारा फर्ज है कि हम फैंस के बीच बातों को पहुंचाएं: जसलीन मथारू

0
10

बिग बॉस की एक्स कंटेस्टेंट रहीं जसलीन मथारू का कहना है सोशल मीडिया पर मिलने वाले कमेंट्स पढ़ उन्हें पैनिक अटैक आया था. जिस वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. बिग बॉस हाउस में विवादित कंटेस्टेंट में से एक जसलीन मथारू का नाम भी आता है. जसलीन और अनूप जलोटा की स्पेशल बॉन्डिंग बिग बॉस के घर और बाहर दर्शकों को एंटरटेन कर चुकी है.

सोशल मीडिया पर हमेशा एक्टिव रहने वालीं जसलीन अक्सर ट्रोल्स का सॉफ्ट टारगेट रही हैं. चाहे वो कोई भी तस्वीर अपलोड कर दें, उन्हें ट्रोल कर दिया जाता है. पिछले दिनों सिद्धार्थ शुक्ला की डेथ के बाद जसलीन के पोस्ट पर यूजर्स ने उन्हें बुरा-भला कहते हुए उन्हें मर तक जाने की बात कह डाली थी. सोशल मीडिया पर निगेटिविटी, पापा की सर्जरी और सिद्धार्थ के सदमें की वजह से जसलीन को पैनिक अटैक आ गया था. जिसके कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया. जसलीन अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुकी हैं. आजतक से बातचीत के दौरान उन्होंने पूरा मामले पर अपनी सफाई देते हुए ट्रोल्स पर गुस्सा जाहिर किया है.

जसलीन कहती हैं, दरअसल मेरे पापा की सर्जरी चल रही है, जिस वजह से वो थोड़े समय से अस्पताल में एडमिट थे. वहीं सिद्धार्थ की खबर के बाद मैं जब उसके घर गई और वहां लौटी, तो काफी डिप्रेस थी. सोशल मीडिया पर लोग मुझसे कहने लगे मर जाओ. मेरे अंदर निगेटिविटी काफी बढ़ गई थी. घर आते ही मैं रोने लगी जिससे मेरी तबीयत बिगड़ गई. पापा को संडे को सर्जरी हुई. उन्हें देखकर मुझे और डिप्रेशन आ गया. मैं अगले दिन ही एडमिट हो गई. मेरे पैनिक अटैक की वजह कहीं न कहीं ट्रोल्स भी हैं.

सोशल मीडिया पर इस तरह के कमेंट्स देखती हूं, तो लगता है कि इन लोगों को इसका नॉलेज ही नहीं है. ये कहानी नहीं जानते हैं कि उस इंसान और उसके परिवार पर क्या असर पड़ रहा होगा. बस जज करने लगते हैं. हालांकि खुद को अच्छा फील करवाने के लिए मैंने एक फिल्टर का इस्तेमाल एक वीडियो बना दिया, तो इस पर भी लोगों ने बुरा-भला कहना शुरू कर दिया. वो मेरे बातों से ज्यादा मेरे मेकअप पर कमेंट कर रहे थे. इतना ही नहीं ये तक कह डाला कि मैं सिद्धार्थ के नाम का इस्तेमाल कर रही हूं. इससे बुरा और क्या हो सकता है.

सिद्धार्थ की मौत के बाद जो सोशल मीडिया पर बहस छिड़ी है. मैं कहती हूं कि पब्लिक पर्सनैलिटी होने के नाते आपको इन सबका सामना करना पड़ता ही है. लोग आपके बारे में जानना चाहते हैं. फैंस और फॉलोअर्स वो प्रेशर डालते ही हैं कि किसी तरह अपने फेवरेट के बारे में जानकारी पता कर पाएं. मैं तो कहूंगी कि यह जिम्मेदारी बन जाती है कि फैंस तक उनकी डिटेल बताई जाए. फैंस को कोई गॉसिप नहीं चाहिए होती है. उन्हें बस जानना होता है कि सिचुएशन कैसी और घर पर सब कैसे हैं. यह कंसर्न की वजह से करते हैं. मुझे कितने मेसेजेस व कॉल्स आएं कि प्लीज बताएं क्या हुआ था.

जसलीन आगे कहती हैं, देखिए मैंने उतना ही बताया था जितनी जरूरी थी. मेरी सिद्धार्थ की मम्मी से बहुत सी बातें हुई लेकिन उसे डिस्क्लोज करना जरूरी नहीं समझती हूं. लोगों को यह जानना था कि शहनाज कैसी है, जिसका मैंने जिक्र भी किया है. मुझे नहीं पता कि लोग इस पर शोर क्यों मचा रहे हैं. आप पब्लिक फीगर हो, तो लोग आपको अपनी प्रॉपर्टी समझेंगे और यही सच्चाई है. लोगों को अंदर की बात बताना आपका फर्ज है. हम नहीं बताएंगे, तो फिर कौन कहेगा. प्रकाशक: Aaj Tak