मायावती ने मुख्तार अंसारी को हाथी से उतारा, चुनाव से पहले बड़ा ऐलान

0
11

मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प कानून द्वारा कानून का राज के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है, ताकि प्रदेश और देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे, कि सरकार हो तो बहनजी की।

New Delhi, Sep 10 : बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अंसारी बंधुओं पर बड़ा फैसला लिया है, बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को पार्टी से हटाते हुअ उनकी जगह आजमगढ मंडल की मऊ विधानसभा सीट से यूपी के बसपा स्टेट अध्यक्ष भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है, शुक्रवार को मायावती ने ट्वीट कर कहा, बसपा का आगामी यूपी विधानसभा आम चुनाव में प्रयास होगा, कि किसी भी बाहुबली या माफिया को पार्टी से चुनाव ना लड़ाया जाए, इसके मद्देनजर आजमगढ मंडल की मऊ विधानसभा सीट से अब मुख्तार अंसारी का नहीं बल्कि यूपी बसपा प्रदेश अध्यक्ष भीम राजभर का नाम फाइनल किया गया है।

जनता से अपील
मायावती ने आगे कहा, जनता की कसौटी और उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिशों के तहत ये फैसले लिये गये हैं, इस निर्णय के फलस्वरुप पार्टी प्रभारियों से अपील है कि mayawati वो पार्टी उम्मीदवारों का चयन करते समय इस बात का खास ध्यान रखें, ताकि सरकार बनने पर ऐसे तत्वों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने में कोई परेशानी ना हो।

बीएसपी का संकल्प
मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प कानून द्वारा कानून का राज के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है, mayawati (1) ताकि प्रदेश और देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे, कि सरकार हो तो बहनजी की, सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय जैसी तथा बसपा जो कहती है कि वो करके भी दिखाती है, यही पार्टी की सही पहचान भी है।

सपा का दामन थाम सकता है अंसारी परिवार
रिपोर्ट के मुताबिक चुनावों से पहले मुख्तार अंसारी और उनका परिवार भी सपा का दामन थाम सकता है, इसके साथ ही मुख्तार के तीसरे भाई अफजाल अंसारी सपा के टिकट सपर ही इस बार का चुनाव लड़ सकते हैं, हालांकि अफजाल अंसारी अभी बसपा के टिकट पर पूर्वांचल की गाजीपुर सीट से लोकसभा सांसद हैं, वैसे ये पहली बार नहीं होगा, जब मुख्तार अंसारी को बसपा से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा, मुख्तार ने अपने सियासी करियर की शुरुआत बसपा से ही की थी, 1996 में वो हाथी की सवारी कर पहली बार विधानसभा पहुंचे थे, हालांकि कुछ दिनों बाद ही मायावती ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया था।