भतीजे चिराग का आमंत्रण चाचा पारस ने किया स्वीकार, दूरी कम होने को लेकर बड़ा बयान

0
9

8 अक्टूबर को पशुपति पारस पटना में पहली पुण्यतिथि मनाएंगे, लेकिन चाचा-भतीजा के बीच दूरी कम होने के सवाल पर पशुपति पारस ने साफ जवाब दिया।

New Delhi, Sep 10 : केन्द्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस ने कहा कि 12 सितंबर को उनके बड़े भाई रामविलास पासवान की बरसी कार्यक्रम में वो शामिल होंगे, पारस ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि बड़े भैया के पुण्य प्रताप से ही इस पद पर हूं, चिराग पासवान अगर निमंत्रण देने नहीं आते, तो भी मैं बरसी कार्यक्रम में पटना में शामिल होता, लोजपा नेता ने कहा, कि 8 अक्टूबर को पहली पुण्यतिथि के मौके पर चिराग पासवान को भी मैं निमंत्रण दूंगा।

8 अक्टूबर को भी पुण्यतिथि
आपको बता दें कि 8 अक्टूबर को पशुपति पारस पटना में पहली पुण्यतिथि मनाएंगे, लेकिन चाचा-भतीजा के बीच दूरी कम होने के सवाल पर पशुपति पारस ने साफ जवाब दिया, उन्होने कहा कि परिवार का मामला अलग है, लेकिन राजनीति का मामला अलग है, परिवार और राजनीति को आपस में मत जोड़िये।

भारत रत्न देने की मांग
पारस ने कहा कि बिहार सरकार कैबिनेट से पास करे और प्रधानमंत्री को पत्र लिखे, कि रामविलास पासवान जी को भारत रत्न दिया जाए, इस बाबत सीएम नीतीश कुमार से भी मुलाकात करेंगे, उनकी दूसरी मांग है कि जिस पार्टी कार्यालय में पटना में 31 सालों तक रामविलास पासवान का संबंध रहा है, पटना जाने पर जहां रुकते थे, उसे सरकार राष्ट्रीय स्मारक घोषित करे, तीसरी मांग है कि हाजीपुर से 1977 से उनका संबंध रहा है, इसलिये नीतीश कुमार से पास ने मांग की है, कि हाजीपुर के किसी सरकार भवन में उनकी बड़ी प्रतिमा लगाई जाए।

स्मारक बनना चाहिये
दिल्ली में 12 जनपद पर प्रतिमा लगाये जाने और रामविलास पासवान स्मृति का बोर्ड लगाये जाने पर पशुपति पारस ने कहा कि देश में जितने भी बड़े-बड़े नेता पैदा हुए, उनके नाम से स्मारक बना है, chirag paswan इसलिये प्रधानमंत्री मोदी जी से मांग करते हैं कि दिल्ली में जगह जो भी हो, रामविलास पासवान जी के नाम पर भी स्मारक बनना चाहिये।