जानिए कितनी सम्पत्ति के मालिक हैं क्रिकेटर शिखर धवन/आयशा मुखर्जी

0
7

शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की गिनती भारत के सबसे रईस क्रिकेटर्स में होती है. वे 2013 से टीम इंडिया का हिस्सा हैं. साथ ही 2008 से लगातार आईपीएल खेल रहे हैं.शिखर धवन भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज हैं. अभी वे आईपीएल 2021 की तैयारियों में लगे हुए हैं. लेकिन अभी पर्सनल जिंदगी से जुड़ी एक खबर है. शिखर धवन के तलाक लेने की जानकारी सामने आई हैं.

उनकी पत्नी के अकाउंट से तलाक के बारे में लिखा गया है. अभी धवन के आधिकारिक बयान का इंतजार है. गब्बर के रूप में पुकारे जाने वाले धवन टीम इंडिया की ओपनिंग के मुख् किरदार है. रोहित शर्मा के साथ मिलकर उन्होंने कई कारनामे क्रिकेट के मैदान पर किए हैं और काफी पैसे भी कमाए हैं. वे टीम इंडिया के रईस खिलाड़ियों में गिने जाते हैं. तो कितनी है शिखर धवन की नेटवर्थ और कहां से करते हैं वे कमाई. यही सब जानेंगे.

शिखर धवन की नेटवर्थ 96 करोड़ रुपये के आसपास है. उनकी कमाई का मोटा हिस्सा बीसीसीआई और आईपीएल के कॉन्ट्रेक्ट से आता है. इसके साथ ही उनके पास कई ब्रैंड्स भी हैं जिनका वे प्रचार-प्रसार करते हैं. ब्रैंड एंडॉर्समेंट के जरिए शिखर धवन हर महीने करीब 30 लाख रुपये की कमाई करते हैं. वे रिलायंस जियो, नेरोलेक पेंट्स, म्युचुअल फंड्स सही है, ड्रीम 11, फीवर एफएम, एरियल जैसे ब्रैंड्स के विज्ञापनों में नज़र आते रहे हैं.शिखर धवन के पास बीसीसीआई की ए ग्रेड का कॉन्ट्रेक्ट है.

इसके जरिए उन्हें सालाना पांच करोड़ रुपये मिलते हैं. साल 2019 के बाद से वे इस कैटेगरी में हैं. इसके अलावा भारतीय टीम की ओर से खेलने पर मिलने वाली मैच फीस अलग से धवन के खाते में आती है. अभी धवन केवल वनडे और टी20 क्रिकेट में ही खेलते हैं. ऐसे में बीसीसीआई एक वनडे के लिए छह लाख रुपये और एक टी20 के लिए तीन लाख रुपये देती है. साथ ही मैच में अच्छे प्रदर्शन पर मिलने वाली इनामी राशि अलग से है.

शिखर धवन की गिनती आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ियों में तो नहीं होती लेकिन उनका कॉन्ट्रेक्ट ठीकठाक है. वे अभी दिल्ली कैपिटल्स टीम का हिस्सा हैं. उन्हें इस टीम से हर सीजन के 5.2 करोड़ रुपये मिलते हैं. वे दो साल से इस टीम के साथ हैं. पहले वे सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेला करते थे. हैदराबाद में 2014 से 2017 के बीच उनकी कमाई हर सीजन के हिसाब से 12.50 करोड़ रुपये थी. वे इस टीम के नंबर दो खिलाड़ी थे. धवन 2008 से आईपीएल खेल रहे हैं. आईपीएल के अलावा वे दिल्ली के लिए घरेलू क्रिकेट में भी खेलते रहे हैं.

यहां से भी उन्हें मैच फीस मिलती है. हालांकि यह काफी कम होती है.शिखर धवन का दिल्ली में शानदार घर है. इसकी कीमत छह करोड़ के आसपास आंकी जाती है. दिल्ली के अलावा भी कई शहरों में उनकी संपत्ति बताई जाती है. इनमें मुंबई, गुरुग्राम शामिल है. उनका ऑस्ट्रेलिया में भी एक अपार्टमेंट है. उनकी पत्नी और बच्चे इसी मकान में रहा करते थे. धवन के पास कई लग्जरी कारें हैं. इनमें ऑडी ए6, बीएमडब्ल्यू 6 जीटी, रेंज रोवर स्पोर्ट्स मुख्य हैं. कुछ समय पहले धवन ने एक करोड़ रुपये की मर्सिडीज कार खरीदी थी. बताया जाता है कि धवन ने एक योगा और वेलनेस स्टार्टअप में भी पैसे निवेश कर रखे हैं.

गौरतलब है कि भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन अपनी पत्नी आयशा मुखर्जी से अलग हो गए हैं. अपने एक इंस्टाग्राम पोस्ट में आयशा ने खुद इसका जिक्र किया है. हालांकि, शिखर तलाक की बात पर अभी तक खामोश हैं. आयशा मुखर्जी की यह दूसरी शादी थी और उनका पहले भी एक तलाक हो चुका है.

आयशा ने शिखर धवन से तलाक के बाद एक के बाद एक कई पोस्ट कर अपने अनुभव और तकलीफों को बयां किया है.आयशा ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में तलाक को लेकर लिखा, ‘शब्दों के इतने शक्तिशाली अर्थ और जुड़ाव कैसे हो सकते हैं. मैं एक तलाकशुदा के रूप में इसका अनुभव पहले भी कर चुकी हूं. मैं अपने पहले तलाक से बहुत ज्यादा डर गई थी. मुझे लगा जैसे मैं असफल हो गई हूं और उस वक्त कितना गलत कर रही थी.’

आयशा मुखर्जी ने लिखा की उन्होंने लिखा, ‘अब जरा सोचिए, मुझे दूसरी बार इस रास्ते से गुजरना होगा. वाओ…ये बड़ा डरावना है. पहली बार तलाक के अनुभव से मुझे महसूस हुआ कि दूसरी बार में भी मेरा बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है. मेरे पास साबित करने के लिए और भी बहुत कुछ था. मेरे लिए दूसरी शादी टूटना वाकई बेहद डरावना अनुभव था. इसका डर, असफलता और निराशा 100 गुना ज्यादा हैं. मेरे लिए इसके क्या मायने हैं?

ये सब मुझे और मेरी शादीशुदा जिंदगी को कैसे परिभाषित करता है?’खैर, एक बार इस पड़ाव से गुजरकर जब मैं बैठ गई और खुद को देखने लगी तो लगा मैं ठीक हूं. दरअसल, मैं सही कर रही थी. ऐसा लगा जैसे मेरा पूरा डर ही गायब हो गया. मैं खुद को बड़ा ताकतवर महसूस करने लगी. मैंने महसूस किया कि डर और तलाक शब्द को मैंने जो अर्थ दिया था, वो मैंने खुद से किया था. इसलिए एक बार जब मुझे इसका एहसास हो गया तो मैंने तलाक शब्द और अनुभव को उस तरह से परिभाषित करना शुरू कर दिया, जिस तरह से मैं इसे देखना और अनुभव करना चाहती थी.’