जब करिश्मा कपूर ने सबके विरोध में जाकर तोड़ दिया थे पृथ्वीराज कपूर के बनाया नियम !

0
9

जब हम बात कर रहें है, 90 के दशक की सुपरहिट हीरोइनों की उनमें सबसे पहला नाम करिश्मा कपूर का आता हैं। यह एक ऐसा नाम है, जिसके बिना 90 के दशक एक अधूरा पन्ना सा लगेगा। वह ऐसा वक्त था, जब बॉलीवुड पर करिश्मा कपूर का राज चलता था। उनके कई सुपरहिट फिल्मों ने आज भी ऐसा छाप छोड़ा है, जिसे आगे आने वाली पीढ़ी याद करेंगी।

बॉलीवुड इंडस्ट्री से जुड़े एक जाने-माने खानदान की बेटी

इंडस्ट्री के एक जाने-माने परिवार से संबंध रखती है, करिश्मा। इनके कपूर खानदान का नाम पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री में फेमस है। तब भी उनको अपनी फिल्मी दुनिया के सफ़र शुरू होने से पहले बहुत स्ट्रगल करना पड़ा । उन्होंने बॉलीवुड में अपनी पहचान अपने बलबूते पर बनाई, बिना अपने परिवार के मदद के। इसके पीछे एक बहुत बड़ी वजह हैं।

परिवार के एक परंपरा को तोड़ने के कारण फिल्मी सफर में परिवार का सपोर्ट ना मिला

यह परंपरा उनके दादा श्री पृथ्वीराज कपूर ने बनाई थी, जिसे अभिनेत्री करिश्मा कपूर ने तोड़ दिया था। इस कारण उन्हें सालों तक अपने परिवार की नाराजगी का भी सामना करना पड़ा।

जानिए क्या परंपरा थी

घर का फिल्मों से जुड़ा माहौल और माता-पिता को फिल्में करता देखकर करिश्मा को बचपन से ही फिल्मी दुनिया में रुचि लगने लगी थी, पर पृथ्वीराज कपूर ने यह परंपरा बनाई कि कपूर खानदान में बेटी या बहु या बहु की बेटी कभी भी फिल्मों में काम नहीं करेंगी, पर करिश्मा ने बॉलीवुड से जुड़ कर यह परंपरा को तोड़ दिया।

करिश्मा की मां ने थामा हाथ और दिया अपनी बेटी का साथ

जब पूरा परिवार उनकी इस फैसले के खिलाफ़ था, तब उनकी मां बबीता ने अपनी बेटी का साथ देने का फैसला किया। इस कारण से बबीता को भी परिवार की नाराजगी का सामना करना पड़ा, यहां तक कि रणधीर कपूर भी बबीता से नाराज हो गए थे, इस वजह से कुछ साल तक दोनों अलग भी रहने लगें थे, पर समय के साथ उनके रिश्ते की खटास कम हो गई, और फिर दोनों साथ आ गए।

मात्र 17 साल की उम्र में फिल्म प्रेम कैदी से शुरू किया अपना सफ़र

करिश्मा की फिल्मी दुनिया में सफ़र का बात करें, उन्होंने एक से बरकार एक बेहतरीन फिल्मों में काम किया। 17 साल की उम्र में फिल्म प्रेम कैदी से अपने बॉलीवुड कैरियर की शुरुआत की, और उसके बाद आमिर खान के साथ उनकी फिल्म ‘राजा हिंदुस्तानी’ ने बॉक्स ऑफिस पर खूब धमाल मचाया, इस फ़िल्म ने उन्हें एक अलग मुकाम पर पहुंचा दिया। करिश्मा कपूर और गोविंदा की फिल्मों को भी लोगों ने काफ़ी पसंद किया।