आख़िर क्यों नहीं है यहां चूहे पालने की अनुमति, लेनी पड़ती है सरकार से परमिशन

0
52

जब हम नियमों की बात करते हैं तो अलग अलग देशों के अलग जगहों पर कई तरह की पाबंदियां लगी होती हैं। पर क्या कभी आपने जानवर पालने पर पाबंदी लगते हुए देखा या सुना है?

 

लगभग सारे देशों में घर पर जानवर पालना आम बात है। हमारे देश में भी लोग कुत्ता, बिल्ली, खरगोश या फिर सफेद चूहा पालते हैं। चूहे तो कुछ कदर दिखते है कि भारत में चूहों का घर में घूमना एक आम बात है। यह चूहे कभी आपकी अलमारी में घुस जाते हैं तो खभी किचन में। पर क्या आपको मालूम है कि किसी देश में चूहे पालने पर पाबंदी लगाई जा सकती है।

 

जी हां आपने सही पढ़ है। दुनिया में एक ऐसी जगह है जहाँ यही आप चूहे पालना चाहते हैं तो पहले मंजूरी लेनी होगी वो भी सरकार से। कनाडा उन्हीं देशों में शामिल है जहां चूहे पालने से पहले लोगों को सरकार से पूछना पड़ता है और अनुमति लेनी होती है।

 

चूहों की वजह से लोगों की फसलें खराब हो रही थीं और उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था कि वह इससे कैसे छुटकारा पा सकते हैं?

 

कृषि कीट अधिनियम ने चूहा नियंत्रण अनिवार्य कर दिया। संपत्ति धारक जो चूहों को नियंत्रित करने में असफल रहे या कीट नियंत्रण निरीक्षकों द्वारा बार-बार दी गई चेतावनियों का पालन नहीं किया, उन्हें आधिकारिक चेतावनी दी जाती थी। चेतावनी की शर्तों का पालन ना कर पाने पर अदालती कार्रवाई भी की जाती थी।

 

हालाँकि, कई वर्षों तक कानूनी सहारे की सहायता नहीं ली गई थी जब तक कि वहां के लोग चूहा नियंत्रण को लोकर शिक्षित ना हो जाए। उस समय, अदालती मामलों की सुनवाई एक स्थानीय मजिस्ट्रेट द्वारा की जाती थी जो आमतौर पर स्थानीय रूप से एक प्रमुख नागरिक होता था। अलबर्टा में चूहा नियंत्रण अभी भी एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है।

 

हालांकि कुछ वर्षों बाद चूहों की संख्या पर नियंत्रण कर लिया गया। पर यह हल परमानेंट नहीं है। आज भी पूरे अल्बर्टा में चूहों के फैलने की क्षमता है उतनी ही है जितनी पहले थी।