जब तपती रेत में एक्ट्रेस जयललिता को गोद में उठाकर सुपरस्टार एमजीआर ने पार किया था रास्ता, जानिए क्या थी वजह

0
5

पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की जिंदगी पर बनी फिल्म थलाइवी हाल ही में रिलीज हुई है इस फिल्म में जयललिता का रोल एक्ट्रेस कंगना रनौत निभा रही है इस फिल्म में आपको के एक्ट्रेस से राजनेता बनने तक के सफर देखने को मिलेगा वही इस फिल्म में कंगना की एक्टिंग की काफी तारीफ हो रही है।

वैसे बता दें कि जयललिता अपने प्रशंसकों के बीच ‘अम्मा’ के नाम से लोकप्रिय थीं. और आज हम आपको इस रिपोर्ट में उनकी जिंदगी से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा बताने जा रहे हैं। जयललिता जी को सिर्फ कुछ ही समय के अंदर फिल्मी में काफी अच्छी पहचान मिल गई थी पर बहुत कम लोग जानते है कि वो कभी भी एक्ट्रेस बनना नहीं चाहती थी पर उनकी किस्मत ने उन्हें फिल्मो तक पहुंचा दिया था।

एक्ट्रेस काफी शांत और शर्मीला थी और फिल्म की शूटिंग के दौरान वह एक कोने में बैठकर किताब पढ़ती रहती थीं।इस बारे में तो सभी जानते है की एक्ट्रेस काफी खूबसूरत थी और उनकी खूबसूरती के लोग दीवाने थे। उनके दीवानो में से एक थे एमजीआर रामचन्द्रन ये बताया जाता है की जब एक बार दोनों थार रेगिस्तान में शूटिंग के लिए गए तो वहां रेत इतनी गर्म थी कि जयललिता उसपर चल नहीं पा रही थी जिस देखने के बाद एमजीआर ने झट से जयललिता को अपनी गोद में उठा लिया।

वासंती जिन्होंने जयललिता पर किताब लिखी है ने बताया था की इस बात का जिक्र जयललिता ने खुद कुमुदन पत्रिका में किया था वह लिखती है ‘हमारी कार थोड़ी दूर पार्क थी. और मैं नंगे पांव थी. तो गर्म रेत पर चलना बहुत मुश्किल हो रहा था. तभी एमजीआर ने मेरी परेशानी को समझा और मुझे अपनी गोद में उठा लिया’।

एमजीआर और जयललिता का रिश्ता सुर्खियों में छा गया था और दोनों के बीच कई मनमुटाव भी हुए और फिर कुछ समय के बाद एमजीआर ने जयललिता को पार्टी के प्रोपेगेंडा सचिव के साथ साथ राज्यसभा का सदस्य भी बना दिया पर लोगों ने उनकी इस बात का काफी काफी विरोध किया जिसके चलते उन्हें प्रोपेगेंडा सचिव के पद से हटाना पड़ा। एमजीआर का निधन एक नेलंबी बीमारी के चलते हुए था और बताया जाता है कि निधन के वक्त एमजीआर के परिवार वालों ने जयललिता को अपने घर आने तक नहीं दिया था।