चीन की हरकतों के बाद में मोदी सरकार ने सबक सिखाने के लिये लिया ये बड़ा फैसला

0
740

भारत और चीन के बीच में इन दिनों में हालात काफी हद तक बिगड़े है और ये कोई अच्छा संकेत नही है. जिस तरह से लोगो ने कही न कही अपने आपको इस तरह से देखा है कि वो चीन के द्वारा घुसपैठ होते हुए देख रहे है उसके बाद में नाराजगी होनी भी बड़ी ही जाहिर सी बात है. अब हाल ही की बात ले लीजिये जिस तरह से इस वक्त में चीन बदमाशी कर रहा है उसके बाद में जवाब देना तो जरूरी था और इसी कारण से अब सरकार ने आर्थिक मोर्चे पर चीन के खिलाफ किलेबंदी करनी शुरू कर दी है जो कही न कही एक सही इशारा भी है.

बात अपने आप में ठीक ही है और सरकार ने क्या किया है? ये बात भी तो आपके लिए जानना जरूरी है तो चलो वो भी हम आपको बताते है. पहले तो रेलवे के जरिये कार्यवाही हुई है. रेलवे में कॉन्ट्रैक्ट हासिल करके चीनी कम्पनियां अरबो रूपये कमाती थी जिस पर लगाम लगा दी गयी है.

भारतीय रेलवे ने चीनी कम्पनी का 471 करोड़ रूपये का कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर दिया है. ये सिर्फ एक शुरुआत मानी जा सकती है. कई सूत्र बताते है कि बीएसएनएल और एमटीएनएल में भी चीनी उपकरणों के उपयोग पर रोक लगी है जिससे आने वाले वक्त में चीन को अरबो रूपये का नुकसान होने जा रहा है.

चीन अपनी भारी भरकम जनसंख्या को खिलाने पिलाने के लिए इसी तरह से पैसे कमाता है और अगर भारत इस तरह से चीन को धकेलता गया तो इनको आर्थिक मोर्चे पर बड़ी ही भारी चोट लगने वाली है इस बात में कोई भी शक नही है. खैर जो भी है कई लोग है जो इस मामले में अपना अपना पक्ष रख रहे है और ये अपने आप में जरूरी भी है कि लोग इस बारे में बोले बात करे.