लखीमपुर केस- सामने आया नया वीडियो, ‘रौंदने वाली’ SUV में पूर्व कांग्रेस का भतीजा भी

0
13

पुलिस को बयान दे रहे युवक ने बताया कि वो 4 लोगों के साथ दूसरी एसयूवी में था, इसी में अंकित दास भी मौजूद थे, उसने पुलिस को गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर भी दिया, और कहा कि वो गाड़ी अंकित की ही है।

New Delhi, Oct 07 : लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के बाद एक-एक कर कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, वीडियो के जरिये दोनों ओर से आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है, अब एक नया वीडियो सामने आया है, इस वीडियो में देखा गया है कि कथित तौर पर किसानों को रौंदने वाली तीन एसयूवी में से एक में पूर्व कांग्रेस सांसद का भतीजा भी बैठा है।

मंत्री का करीबी
आपको बता दें कि लखीमपुर की इस घटना में 4 किसानों की मौत हो गई थी, वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस एक घायल शख्स से सवाल पूछ रही है, शख्स दावा करता है, कि वो उसी एसयूवी में था, ajay mishra जिसमें पूर्व कांग्रेस सांसद अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास बैठे थे, बताया जाता है कि अंकित दास केन्द्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के करीबी हैं।

हम पीछे थे
पुलिस को बयान दे रहे युवक ने बताया कि वो 4 लोगों के साथ दूसरी एसयूवी में था, इसी में अंकित दास भी मौजूद थे, उसने पुलिस को गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर भी दिया, और कहा कि वो गाड़ी अंकित की ही है, महिंद्रा थार के बारे में सवाल किये जाने पर उसने कहा, कि वो सबसे आगे सबपर चढाते जा रहे थे, हम पीछे थे, घायल शख्स कहता है, वो भैया (अंकित दास) के साथ था, द इंडियन एक्सप्रेस ने अंकित से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा, कि वीडियो की जांच की जाएगी, इसके बाद आरोपियों पर कार्रवाई की जाएगी। लखीमपुर में कथित तौर पर गाड़ी के नीचे रौंद्रे जाने के बाद 4 किसानों की मौत हुई थी, इसके बाद भड़की हिंसा में 4 और लोगों की मौत हो गई थी, घटना के बाद केन्द्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है।

एक और वीडियो वायरल
लखीमपुर कांड का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, दावा किया जा रहा है कि इस वीडियो में स्पष्ट देखा जा सकता है, कि अजय मिश्रा के बेटे की महिंद्रा थार के नीचे आकर किसानों की मौत हो गई, हालांकि हम ऐसे किसी भी वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करते हैं, वहां मौजूद एक शख्स के मुताबिक जब वाहन किसानों को रौंदने में लगे थे, तो जवाबी हमले में वाहनों में आग लगा दी गई, काफिले के 4 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई।