योगी की तारीफ करते नहीं थकतीं मुलायम की बहू अपर्णा यादव, बोलीं- जैसा नेताजी कहेंगे वैसा करूंगी

0
8

अपर्णा यादव एक ओर तो योगी आदित्‍यनाथ की तारीफ करते नहीं थकतीं, वहीं दूसरी ओर नेताजी यानी अपने ससुर के अनुसरण की बात करती हैं । खबर पढ़ें विस्‍तार से ।

New Delhi, Oct 09: लखनऊ की कैंट सीट से पिछली बार हारीं मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव एक बार फिर इसी सीट से ताल ठोंक रही हैं । अपर्णा ने क्षेत्र में जनसंपर्क बढ़ा दिया है । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में अब तीन महीने के करीब का समय बचा है, ऐसे में सियासी दल, उम्‍मीदवार अपनी जमीन जमाने में जुट गए हैं । अपर्णा यादव ने आजतक मीडिया से बातचीत में कहा कि वो चुनाव लड़ने को तैयार हैं, नेताजी का आदेश हुआ तो वो चुनाव जरूर लड़ेंगी । दरअसल अपर्णा हैं तो समाजवादी पार्टी से जुड़ी हुई लेकिन साथ ही वो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते भी नहीं थकतीं ।

रीता बहुगुणा जोशी से हार गईं थीं अपर्णा
साल 2017 में अपर्णा यादव ने लखनऊ कैंट से बतौर सपा प्रत्याशी चुनाव लड़ा था । इस चुनाव में वह भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी से हार गई थीं । अपर्णा को करीब 63 हजार वोट मिले थे । अब एक बार फिर वो इस सीट पर दांव खेलना चाहतती हैं । आजतक से बात करते हुए जब अपर्णा से पूछा गया कि क्‍या आप वापस इसी सीट से तैयारी कर रही हैं, तो उन्होंने कहा कि वो हमेशा से नेताजी यानी मुलायम सिंह यादव के मार्ग का अनुसरण करती आई है, इसलिए जैसा नेताजी कहेंगे वैसा ही वो करेंगी । लेकिन उनकी सीट कैंट विधानसभा है, यहीं उनका जन्म भी हुआ है, पिछली बार भी हीं से टिकट मिला था, इलिए वो क्षेत्र उन्‍होंने नहीं छोड़ा । बाकी जैसा नेताजी को ठीक लगे वो फैसला करें ।

योगी की तारीफ क्‍यों करती हैं ? अगर बीजेपी टिकट दे तो…
अपर्णा से पूछा गया कि वो अकसर योगी जी की तारीफ करती हैं, ऐसे में बीजेपी से टिक मिले तो … अपर्णा ने जवाब देते हुए कहा कि ऐसे आरोप लगाना ठीक नहीं । जो सत्‍ता में रहता है उनसे मिलना ही पड़ता है । जनमानस के काम के लिए ये जरूरी है । अपर्णा ने कहा कि उन्‍हें नेताजी और भईया यानी अखिलेश यादव का सानिध्य मिलता रहता है । अपर्णा ने कहा कि इन लोगों ने शादी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बुलाया हुआ है तो ऐसे आरोप सिर्फ उन पर क्‍यों लगते हैं ।

एकजुट रहेंगे तो चुनाव जीतेंगे
आपको बता दें कैंट सीट पर सपा कभी चुनाव नहीं जीती है । ऐसे में अपर्णा के लिए ये सीट चुनौतियों से भरी है । हालांकि अपर्णा का कहना है कि अगर पार्टी के पदाधिकारी इस सीट पर एकजुट होकर काम करें तो चुनाव जीतना मुश्किल नहीं । लेकिन अभी एकजुटता नहीं हैं । अपर्णा से ये भी पूछा गया कि पिछली बार की हार का ठीकरा उन्‍होंने अपनो के ही सिर फोड़ा था, इस पर उन्‍होंने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में चाचा और भईया का झगड़ा पार्टी में बिखराव का कारण बना । जनता ने भी ये देखा और असर चुनाव परिणाम में देखने को मिला । लेकिन फिर भी हजारों कैटवासियों ने उन्‍हें वोट दिया उसका वोधन्‍यवाद करती हैं ।
(खबर इनपुट आजतक न्‍यूज वेबसाइट से)