DC Vs RCB- केएस भरत आखिरी गेंद से पहले क्या सोच रहे थे, मैच के बाद बताई पूरी बात

0
16

ऐसे में आरसीबी को इस मुकाबले को जीतने के लिये अंतिम गेंद में 5 रन चाहिये थे, यानी छक्का लगाकर ही मैच जीता जा सकता था, किसी भी बल्लेबाज के लिये आखिरी गेंद पर ऐसा करना आसान नहीं था, लेकिन भरत ने दिल्ली के अरमानों पर पानी फेरते हुए सिक्स लगा दिया।

New Delhi, Oct 09 : आईपीएल 2021 के लीग स्टेज का जैसा अंत होना था, वैसा ही हुआ, आरसीबी और दिल्ली कैपिटल्स के बीच आखिरी मुकाबला खेला गया, इसका नतीजा भी आखिरी गेंद पर ही आया, केएस भरत ने दिल्ली के तेज गेंदबाज आवेश खान की अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर आरसीबी को रोमांचक जीत दिलाई, हालांकि मैच का नतीजा किसी के हक में भी जा सकता था, क्योंकि आखिरी ओवर में आरसीबी को जीतने के लिये 15 रन बनाने थे, आवेश खान की पहली पांच गेंद में 10 रन आये थे, आखिर गेंद में 5 रन की जरुरत थी, भरत ने छक्का लगाकर टीम को जीत दिला दी।

1 गेंद 5 रन
ऐसे में आरसीबी को इस मुकाबले को जीतने के लिये अंतिम गेंद में 5 रन चाहिये थे, यानी छक्का लगाकर ही मैच जीता जा सकता था, किसी भी बल्लेबाज के लिये आखिरी गेंद पर ऐसा करना आसान नहीं था, लेकिन भरत ने दिल्ली के अरमानों पर पानी फेरते हुए सिक्स लगा दिया, अपनी टीम की झोली में जीत डाल दी, भरत ने इस मुकाबले में नाबाद 78 रनों की पारी खेली, जिसके लिये उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

दिमाग में क्या चल रहा था
मैच के बाद उन्होने खुलासा करते हुए बताया कि आखिरी गेंद से पहले उनके दिमाग में क्या चल रहा था, ग्लेन मैक्सवेल के साथ उनकी क्या बात हुई, भरत ने कहा कि आखिरी गेंद पर जीतना वाकई खास है, मैं बता नहीं सकता कि आखिरी गेंद पर मैच खत्म करके कैसे महसूस कर रहा हूं, इस ओवर के दौरान मैं और मैक्सवेल लगातार बात कर रहे थे, वो मेरा हौसला बढा रहे थे, मैं किसी भी समय नर्वस महसूस नहीं कर रहा था, मैं सिर्फ एक गेंद पर फोकस कर रहा था, वाइड के बाद आखिरी गेंद पर मौके की तलाश में था, और मुझे ये मिल गया।

मुफ्त में आने वाली चीजों पर विश्वास नहीं
भरत ने कहा कि मैं स्पिनरों के खिलाफ अपनी बल्लेबाजी पर काम करता हूं, मैं मुफ्त में आने वाली किसी भी चीज में विश्वास नहीं करता, इसलिये मैं इसके लिये कड़ी मेहनत करता हूं, इसी की नतीजा है कि दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मैं मैच को आखिरी गेंद पर खत्म कर पाया। आपको बता दें कि इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने विराट कोहली (4) और देवदत्त पडिक्कल (0) के सस्ते में आउट होने के बाद डिविलियर्स और मैक्सवेल के साथ अहम साझेदारी की, उन्होने डिविलियर्स के साथ पहले तीसरे विकेट के लिये 49 रन फिर मैक्सवेल के साथ चौथे विकेट के लिये 100 से ज्यादा रनों की पार्टनरशिप कर टीम को जीत दिलाई।