आर्यन खान को अरेस्ट करने वाले समीर वानखेड़े है मुंबई के असली सिंघम ,कोई कितना भी बड़ा सेलेब्रिटी हो, नहीं सुनते।

0
11

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) द्वारा शनिवार को की गई कार्रवाई के बाद से जहां बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को लेकर चर्चा है. वहीं एक और नाम भी सुर्खियों में है और वो है समीर वानखेड़े का.एनसीबी मुंबई के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को महाराष्ट्र का सिंघम माना जाता है,क्योंकि बिना किसी के दबाव में आए अपना काम करते हैं.

समीर वानखेड़े के नेतृत्व में NCB ने मुंबई की रेव पार्टी पर छापा मारकर मादक पर्दाथ बरामद की थी.इस संबंध में आर्यन खान सहित आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है. ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के मुताबिक,पिछले साल जब सुशांत सिंह राजपूत की इस दुनिया से चले जाने के बाद बॉलीवुड में मादक पर्दाथ एंगल सामने आया था,तब भी समीर वानखेड़े का नाम चर्चा में था. उस दौरान भी उन्होंने बिना किसी दबाव के अपना काम किया था.

महाराष्ट्र के रहने वाले समीर वानखेड़े 2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं. भारतीय राजस्व सेवा ज्वाइन करने के बाद उनकी पहली पोस्टिंग मुंबई के छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डिप्टी कस्टम कमिश्नर के तौर पर हुई थी. उस दौरान भी उन्होंने सिंघम की तरह अपनी ड्यूटी निभाई थी. उन्हें बाद में आंध्र प्रदेश और फिर दिल्ली भी भेजा गया. वानखेड़े को नशे और मादक पर्दाथ से जुड़े मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है.

समीर वानखेड़े ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में रिया चक्रवर्ती और उसके भाई से भी पूछताछ की थी.कुछ वक्त पहले उन्होंने एक्टर अरमान कोहली को गिरफ्तार किया था. इसके अलावा उन्होंने अभिनेत्री सारा अली खान,दीपिका पादुकोण और श्रद्धा कपूर के नारकोटिक्स कनेक्शन की भी जांच की थी. 2013 में समीर ने विदेशी मुद्रा मामले में मीका सिंह सिंगर को भी पकड़ा था. इतना ही नहीं उन्होंने अभिनेता अर्जुन रामपाल की गर्लफ्रेंड के भाई को भी के मामले में गिरफ्तार किया था.

समीर वानखेड़े के नेतृत्व में ही पिछले दो सालों के अंदर करीब 17 हजार करोड़ रुपये के नशे और मादक पर्दाथ रैकेट का पर्दाफाश किया गया है. पिछले साल मुंबई में एक रेड के दौरान उनकी टीम पर हमला भी हुआ था. वानखेड़े को बेहद सख्त ऑफिसर माना जाता है. उनकी छवि एक ईमानदार अधिकारी की है और वो केवल अपनी ड्यूटी पर ही फोकस करते हैं. हाई प्रोफाइल मामलों में दबाव काफी ज्यादा रहता है, लेकिन वानखेड़े को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता.