प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने सच कर दी राहुल गांधी की बात, जो कहा वो किया

0
135

देश में लागू हुए तीनों कृषि कानून वापस ले लिए गए हैं । मोदी सरकार के इस फैसले के बाद राहुल गांधी की भी प्रतिक्रिया आई है । क्‍या कुछ कहा, आगे पढ़ें ।

केन्‍द्र की मोदी सरकार ने पिछले 11 महीने से चल रहे किसानों के गतिरोध पर आज विराम लगा दिया । जिन तीन कृषि कानूनों का किसान पिछले डेढ़ साल से विरोध करते आ रहे थे, सरकार ने आज उन्‍हें वापस लेते हुए सबको चौंका दिया । कांग्रेस समेत दूसरे दल इसे चुनावी फैसला बता रहे हैं, वहीं कानूनों की वापसी के ऐलान को बीजेपी सरकार के अहंकार की हार भी माना जा रहा है । इस बीच राहुल गांधी ने ट्वीट किया है । क्‍या कुछ कहा आगे पढ़ें ।

राहुल गांधी का ट्वीट
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम मोदी की ओर से कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान को बीजेपी के अहंकार की हार बताया । राहुल गांधी ने अपना rahul-modi (1)एक पुराना वीडियो भी शेयर किया है जिसमें वो कह रहे हैं कि सरकार को इन कानूनों को वापस लेना ही पड़ेगा । राहुल ने ट्वीट कर लिखा है- देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया। अन्याय के खिलाफ़ ये जीत मुबारक हो! जय हिंद, जय हिंद का किसान! #FarmersProtest

वीडियो में क्‍या कह रहे हैं राहुल गांधी
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपना 14 जनवरी का जो वीडियो शेयर किया है उसमें वो कह रहे हैं कि वो किसानों के आंदोलन के साथ हैं । उन्‍हें गर्व है जो किसान कर रहे हैं । वो भी अपनी पंजाब यात्रा के दौरान इ मुद्दे को उठाएंगे । राहुल ने कहा कि, मरे शब्‍दों को आज नोट कर लीजिए कि सरकार एक ना एक दिन इन कानूनों को वापस लेने के लिए जरूर मजबूर होगी । राहुल ने ये वीडियो शेयर कर बताया कि सरकार ने वही किया जो वो कह रहे थे । उनकी बातें आज सच साबित हुई हैं ।

कांगेस में खुशी, सरकार को घेरा
मोदी सरकार के कृषि कानूनों की वापसी के बाद से कांग्रेस खेमा किसानों के साथ खुशी मना रहा है । लेकिन कहीं ना कहीं उन्‍हें ये गम भी जरूर है कि उनके हाथ से एक बड़ा चुनावी मुद्दा निकल गया । बीजेपी ने चुनाव से पहले ही अपनी राह के इस बड़े रोड़े को हटा दिया है । विपक्ष को मोदी सरकार के इस कदम की भनक तक नहीं थी । ऐसे में चुनाव में एक बड़ा मुद्दा अब बचा ही नहीं है । बीजेपी के इस कदम का उन्‍हें कितना फायदा होगा ये देखने वाली बात होगी, लेकिन एक बड़े तबके को सरकार ने खुश जरूर कर दिया है । डेढ़ साल का गतिरोध सरकार के झुकने से अब खत्‍म हो गया है ।