कोर्ट आर्डर के बाद अब निकलेगा समीर वानखेड़े का तेल, बेटे को फ़साने कि ऐसी सजा देंगे शाहरुख़

0
3265




बॉम्बे हाई कोर्ट के बेल आर्डर के बाद अब समीर वानखेड़े का मुश्किल वक़्त शुरू हो चूका है। जी हां दोस्तों अब शाहरुख़ खान के पास अब खुला ऑप्शन है कि वो अब समीर वानखेड़े को कानूनी तौर पर ऐसी पटखाली दे कि मामला दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। काफी लोग शाहरुख खान को इस बात की लीगल सलाह भी दे रहे है और ये सारी कहानी शुरू होती है बॉम्बे हाई कोर्ट के बेल आर्डर से। दरअसल आर्यन खान के बेल आर्डर के बाद जब बॉम्बे हाई कोर्ट ने अपना फैसला दिया, तो लोगो ने पूरी तरह NCB और समीर वानखेड़े की धज्जियाँ उदा दी।

बॉम्बे हाई कोर्ट ने NCB को लताड़ लगाते हुए साफ़ कहा कि ऐसा लगता है है कि आर्यन खान को जानबूझ कर फसाया गया। ना तो उनके पास से ड्रग्स मिली, और न तो उनके व्हाट्सप्प चैट्स से कुछ साबित हुआ। उन्हें तीस दिनों तक गलत वजह से जेल में रक्खा गया। ये आर्डर पूरी तरह NCB और समीर वानखेड़े के खिलाफ है। और ये शाहरुख़ के लिए समीर के खिलाफ कोई सख्त लीगल एक्शन लेने का सॉलिड मौका भी बन सकता है।

यानी अब शाहरुख़ चाहे तो अपने बेटे को फ़साने की साजिश की कानूनी लड़ाई कोर्ट में लड़ सकते है, और अगर उन्होंने ऐसा किया तो समीर वानखेड़े के लिए यह काफी मुश्किल वक़्त होगा। हो सकता है कि तब समीर को समझ में आये कि उनके किये गए लीगल राउंड्स क्या थे और वह कितने मजबूत थे। वैसे देखा जाए तो NCB और समीर भी इस साजिश के खिलाफ अपनी चमड़ी बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जा सकते है।

लेकिन इसमें खतरा यह भी है कि अगर सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाई कोर्ट की बात को सही मानते हुए समीर और NCB को दुबारा लताड़ लगा दी तो यह कही के भी नहीं रहेंगे। इसके अलावा समीर के लिए एक और बुरी खबर भी है। महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मालिक हर रोज़ समीर की धज्जियाँ उड़ा रहे है। वह समीर के निकाह की एक एक डिटेल लीक कर रहे है। और अगर यह तमाम आरोप भी कोर्ट में साबित हो गए तो समीर वानखेड़े की तो नौकरी तक जा सकती है।

यानी कुल मिलकर मुश्किल समीर वानखेड़े के चारो तरफ मुँह खोल कर खड़ी है। बस देखना यह होगा कि शाहरुख़ खान अपना कदम समीर के खिलाफ उठाते है या नहीं। वैसे बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के बाद काफी लोगो ने एक्शन लेने की सलाह दी है। मगर देखना यह है कि क्या शाहरुख़ समीर वानखेड़े के खिलाफ कोई लीगल एक्शन लेते है या फिर इस मामले को युही जाने देते है।