मंदोंदरी ने अपनी मर्जी से नही इस मजबूरी के चलते रावण से की थी शादी

0
2851

रामायण तो आपने खूब पढ़ ही रखी होगी और पढ़ी नही होगी तो सीरियल में देख तो रखी ही होगी आखिर इन दिनों तो काफी ट्रेंड भी कर रही है लेकिन इसमें भी कुछ सवाल है जो आपको सीधे देखने पर नही मिलते है बल्कि आपको कथाओं के गूढ़ ज्ञान में जाना पड़ता है और इसी से जुड़ा हुआ ऐसा ही एक सवाल है जिसके बारे में आपको शायद जानकारी न हो.

रावण की पत्नी मंदोदरी थी और दोनों की शादी काफी समय पहले हो रखी थी जब सीता हरण आदि का चरण आता है तो सवाल ये आता है कि रावण में मंदोदरी ने क्या देखा था? इसके पीछे एक कहानी है जो मायासुर से जुडी हुई है. मंदोदरी अप्सरा हेमा की पुत्री थी जो दिखने में अति सुन्दर थी जिसे मायासुर ने गोद लिया था.

मायासुर कश्यप ऋषि का बेटा था और वो असुरो का विश्वकर्मा कहा जाता था जो किसी भी तरह के निर्माण कार्य में कुशल था. मायासुर ने मंडोर नाम का सुंदर महल और नगर बसाया था जिसमे मंदोदरी रहा करती थी जो कि आज की तारीख में जोधपुर शहर में है. यहाँ पर एक बार रावण पहुँच गया और उसने मंदोदरी को देखा तो उसकी सुन्दरता को देख मोहित हो गया.

रावण ने मंदोदरी के पिता मायासुर से बात की तो मायासुर को मानना ही पड़ा क्योंकि रावण खुद भी उनकी तरह एक असुर ही हो चला था और रावण जैसे प्रतापी व्यक्ति को मना करके वो तकलीफ नही ले सकता था तो मायासुर ने भी अवसर के महत्त्व को समझते हुए हाँ कर दी. कहा जाता है मंदोदरी ने रावण को पसंद नही किया था लेकिन फिर भी अपने पिता के द्वारा दिए गये वचन की मजबूरी के चलते हुए मंदोदरी ने रावण से विवाह किया और उसके बाद में रावण के महल लंका में चली गयी.