दुसरे की बीवी को भगा ले जाना पड़ सकता है भारी, मिलती है ये सजा

0
832

आपने कुछ समय पहले सुना होगा कि देश में से एक क़ानून था जिसे हम सब व्याभिचार क़ानून के नाम से जानते थे वो हट गया था. ये क़ानून कहता था कि अगर आप किसी और की बीवी को अपने साथ में ले जाते है या फिर उसके साथ में सम्बन्ध स्थापित करते है तो आपको सात साल तक की जेल हो सकती थी. मगर सुप्रीम कोर्ट में इस क़ानून को ही खत्म कर दिया गया यानी अब 497 खत्म हो गया है. अब इसके बाद में कई लोगो को लगा होगा कि गैर वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित करना आसान है.

अगर आप भी ऐसा ही सोचते है तो रूक जाइए क्योंकि अभी भी एक धारा है जो आपको दिक्कत दे सकती है और वो धरा है 498. हालांकि ये उतनी भी प्रभावी और ताकतवर नही है लेकिन फिर भी आपके लिए समस्या खड़ी कर सकती है और कर भी रही है.

इस धारा के अनुसार अगर कोई व्यक्ति किसी की पत्नी को बिना उसकी इच्छा ये, उसकी मर्जी के ले जाता है या फिर बिना उसकी संरक्षक की मर्जी के ले जाता है वो भी बहला फुसलाकर तो उस व्यक्ति को दो साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है. अगर किसी की पत्नी किसी और के साथ उसकी मर्जी से चली जाती है तो कोई केस नही बनता है लेकिन अगर बहला फुसलाकर के ले गया ये बात सबूतों के साथ में सिद्ध हो जाती है तो फिर एक से दो साल तक की जेल हो सकती है.

बाकी बात करे व्याभिचार क़ानून की तो वो अब समाप्त हो चुका है. यानी अब कोई व्यक्ति या महिला शादी से बाहर किसी और के साथ में सम्बन्ध स्थापित करता है तो ये क़ानूनन कोई बड़ा अपराध नही है. हालांकि तलाक हासिल करने के लिए ये भी एक पर्याप्त सबूत और आधार माना जाता है और इसके आधार पर कोर्ट तलाक को मंजूरी भी दे देता है.