मकर संक्रांति 2022: मकर संक्रांति की सुबह भूलकर भी न करें ये गलती, सूर्य देव भी करते हैं ये 5 चीजें

0
5

मकर संक्रांति तब होती है जब सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करते हैं। इस समय सूर्य उत्तरायण है। धार्मिक मान्यता के अनुसार सूर्य उत्तरायण के समय किए गए जप और दान का फल अनंत होता है। मकर संक्रांति के दिन जहां कुछ कार्य करना शुभ माना जाता है वहीं कुछ कार्यों पर रोक लगाई गई है। आइए जानते हैं इस दिन भूलकर भी कौन से काम नहीं करने चाहिए। गरीबों को उनकी क्षमता के अनुसार कुछ दान करें। मकर संक्रांति के दिन अपनी वाणी पर संयम रखें और क्रोध न करें.

इस बार मकर संक्रांति 14 जनवरी शुक्रवार को मनाई जा रही है. इस दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं, यानी मकर राशि में प्रवेश करते हैं और एक महीने तक रहते हैं. सूर्य देव की गति उत्तरायण है, जो दान, स्नान के लिए शुभ मानी जाती है। ज्योतिष शास्त्र में इस दिन कुछ काम करना शुभ माना गया है, वहीं कुछ कामों का निषेध किया गया है। मकर संक्रांति के दिन स्नान करने से पहले कुछ भी नहीं खाना चाहिए। आइए जानते हैं इस दिन किन कार्यों से बचना चाहिए।

ये गलती न करें (Makar Sankranti 2022 Rules)

हर दिन की तरह कुछ लोग मकर संक्रांति के दिन सुबह उठते ही चाय और नाश्ता करना शुरू कर देते हैं। लोग सोचते हैं कि इस दिन केवल गंगा या पवित्र नदियों में स्नान करना ही महत्वपूर्ण है, लेकिन ऐसा नहीं है। मकर संक्रांति के शुभ दिन बिना स्नान किए भोजन नहीं करना चाहिए। घर में पानी में काले तिल, हल्का गुड़ और गंगाजल मिलाकर स्नान करना चाहिए।

यह काम वर्जित

1- मकर संक्रांति के दिन लहसुन, प्याज और मांस का सेवन नहीं करना चाहिए. मकर संक्रांति का पर्व सादगी से मनाना चाहिए।
2- यह प्रकृति का पर्व है और हरियाली का पर्व है। इसलिए इस दिन फसलों की कटाई का कार्य स्थगित कर देना चाहिए।
3- मकर संक्रांति के दिन अपनी वाणी पर संयम रखें और क्रोध न करें. किसी से अपशब्द न बोलें, सबके साथ अच्छा व्यवहार करें।
4- मकर संक्रांति के दिन किसी भी प्रकार का नशा न करें. आपको शराब, सिगरेट, गुटखा आदि के सेवन से बचना चाहिए।
5- इस दिन मसालेदार भोजन नहीं करना चाहिए।

मकर संक्रांति पर क्या करें

1- मकर संक्रांति के दिन यदि आपके घर में कोई भिखारी, साधु या बुजुर्ग आता है तो अपनी क्षमता के अनुसार कुछ दान अवश्य करें।
2- मकर संक्रांति के दिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पूजा करें.
3- इस दिन तिल, मूंग दाल की खिचड़ी आदि का सेवन करना चाहिए और इन सभी चीजों का यथासंभव दान करना चाहिए.
4- मकर संक्रांति के दिन काले तिल का दान करने का विशेष महत्व है. ऐसा करने से शनि देव और सूर्य देव प्रसन्न होते हैं।
5- मकर संक्रांति के दिन भी खाने में सात्विकता का पालन करें.