सैफ की माँ थी पहली बिकनी पहनने वाली एक्ट्रेस, दिए थे ऐसे पोज़ की करीना भी शर्मा जाए

0
13

बॉलीवुड की चर्चित अभिनेत्रियों में से एक शर्मिला टैगोर है, जिनके आज भी लाखों लोग चाहने वाले हैं। ‘कश्मीर की कली’ में किया गया उनका रोल आज भी लोगों के ज़हन में है। इस फिल्म के बाद से वे रातों रात सुर्खियों में आ गयी थी, इसके बाद नवाब पटौदी से शादी ने तो उन्हें मीडिया की चहेती ही बना दिया था। शर्मिला ने अपने अभिनय से लोगों के दिलों में खूब राज़ किया इसके बाद उन्होंने रियल लाइफ में माँ का किरदार निभाने का मौका मिला जिसे भी उन्होंने काफी ईमानदारी से निभाया, उन्होंने अपने बच्चों सैफ, सोहा, सबा की बहुत अच्छे से परवरिश की। आज उन्हीं शर्मिला टैगोर का जन्मदिन है तो आइये जानते हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ अनूठे किस्से।

शर्मिला की सुर्खियों से दोस्ती का सिलसिला शुरू हुआ 1967 में आई फिल्म ‘एन इवनिंग इन पेरिस’ से, दरअसल यही वो फिल्म थी जिसमें कोई भारतीय अभिनेत्री कैमरे के सामने स्विमसूट में नज़र आई थी। शर्मिला का यह कारनामा करना सुर्खियों को काफी पसंद आया और उसने अभिनेत्री को रातों रात उठा दिया।

बता दें कि शर्मिला ने कश्मीर की कली, वक्त, आराधना, आमने-सामने जैसी कई फिल्मों में बेहतरीन अभिनय कर लोगों का खूब मनोरंजन किया और दिल जीता। 

लोगों के बीच में आज भी कश्मीर की कली के नाम से जानी जाने वाली शर्मिला का जन्म 8 जून 1944 को हुआ था। काफी समय तक शर्मीला ने अपने अभिनय और खूबसूरती की वजह से बड़े पर्दे पर राज किया था। 

बता दें की स्विमसूट में खूबसूरती बिखेरने से पहले शर्मिला एक और अनोखा काम कर चुकी थी जो उनसे पहले किसी ने नहीं किया था। बता दें उन्होंने फिल्मफेयर मैगजीन के अगस्त 1966 के अंक के लिए टू पीस बिकिनी पहनी थी।

शर्मिला अपने इसी अवतार की वजह से लोगों के दिलों में एक अलग जगह बना ली थी। क्योंकि उनसे पहले किसी अभिनेत्री ने बिकनी में बड़े पर्दे पर आने की हिम्मत नहीं दिखाई थी।          

‘एन ईवनिंग इन पेरिस’ के समय शर्मिला से जुड़ा एक किस्सा काफी मशहूर है। दरअसल यह वो दौर था जब शर्मिला और मंसूर अली खान पटौदी प्यार का नया-नया स्वाद चख रहे थे। बात इतनी आगे बढ़ चुकी थी की मंसूर की मां शर्मिला से मिलने मुंबई आ रही थीं। वहीं उन दिनों मुंबई में उनके स्विमसूट के पोस्टर हर जगह लगे हुए थे। ऐसे समय में मंसूर की मां के आने की खबर सुन वे घबरा गई थीं। उन्होंने फिल्म के प्रोड्यूसर को कह कर मुंबई के हर कोने से फिल्म के पोस्टर्स को हटवा दिया था।