घर के मंदिर में भगवान की मूर्ति कैसे लगाएं? ज्यादातर लोगों को इसकी सही जानकारी नहीं है…

0
6




घर के मंदिर में भगवान की मूर्ति कैसे लगाएं?  ज्यादातर लोगों को इसकी सही जानकारी नहीं है...

हमारे सभी लोगों को प्रार्थना के घर की जरूरत है। जहां हम देवी-देवताओं की मूर्तियां रखते हैं। अधिकांश लोगों को यह नहीं पता होता है कि घर में मंदिर कहां स्थापित करें और वे बिना किसी आचार्य, ब्राह्मण आदि की जानकारी के मंदिर की स्थापना कर देते हैं। अगर मंदिर घर जैसा न दिखे तो घर में संकट आ सकता है। यह जानना बहुत जरूरी है कि ज्योतिष के अनुसार देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित करनी चाहिए।

अगर मंदिर गलत जगह पर हो तो इससे घर में कलह और अशांति हो सकती है। यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए कि देवताओं की मूर्तियों को हर समय सही जगह पर रखा जाए। आइए फिर हम आपको बताते हैं कि घर में हमेशा सुख-समृद्धि लाने वाले देवी-देवताओं के मंदिर, मूर्तियां और मूर्ति कैसे स्थापित करें।

सबसे पहले गणेश जी की पूजा की जाती है। श्रीगणेश की मूर्ति को हमेशा नारंगी या पीले रंग के कपड़े पर रखना चाहिए, जो घर के लिए बहुत शुभ होता है। इसके अलावा अगर गणेश जी की मूर्ति नृत्य रूप में हो तो यह बहुत शुभ माना जाता है।

यदि आप अपने घर के मंदिर में भगवान कृष्ण की बाल मूर्ति रखते हैं, तो यह घर के लिए बहुत शुभ माना जाता है। यदि राधाकृष्ण की मूर्ति घर के कुंड में हो तो उसे खड़ी स्थिति में रखना चाहिए। शिवलिंग को कभी भी घर के मंदिर में स्थापित नहीं करना चाहिए। इसके स्थान पर आप शिवाजी की तस्वीर लगा सकते हैं।

घर में धन के देवता लक्ष्मी और कुबेर की मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए। इस मूर्ति को बैठने की स्थिति में रखना घर के लिए शुभ माना जाता है। घर में सुख-शांति के लिए भगवान विष्णु की मूर्ति या तस्वीर रखें। साथ ही लक्ष्मीजी की स्थापना करनी चाहिए। जिस घर में राम के साथ जानकी और हनुमान की मूर्तियाँ रखी जाती हैं, वहाँ हमेशा सुख और प्रेम बना रहता है।

मंदिर में एक बात का ध्यान रखें कि भगवान की मूर्ति या मूर्ति को कभी भी सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए। यह अत्यंत अशुभ माना जाता है। अगर घर में हनुमानजी की मूर्ति है तो उनकी मूर्ति या तस्वीर रखना बहुत शुभ माना जाता है, जिसमें वह पहाड़ों को उठाते या अपनी शक्ति का प्रदर्शन करते नजर आते हैं।