बॉलीवुड के अन्ना सुनील शेट्टी ने महेश बाबू पर कसा तंज, कहा- पिता हमेशा पिता रहेंगे

0
2

बॉलीवुड एक बहुत बड़ी फिल्म इंडस्ट्री है। इंडस्ट्री में एक से बढ़कर एक बेहतरीन और दिग्गज कलाकार हैं। फैंस इन कलाकारों को खूब पसंद करते हैं। लेकिन पिछले कुछ समय से साउथ सिनेमा दर्शकों को दीवाना बनाते हुए नजर आ रहा है। पिछले कुछ समय से दक्षिणी सिनेमा की एक से बढ़कर एक फिल्में रिलीज हो चुकी हैं। जिसे फैंस ने बहुत पसंद किया। वहीं बॉलीवुड की फिल्में पिछले कुछ समय से धूम मचा रही हैं। इस बीच दक्षिणी सिनेमा के मशहूर प्रतिनिधि महेश बाबू ने एक बयान दिया। उन्होंने कहा कि बॉलीवुड में लोग इसे स्वीकार नहीं कर पाएंगे। जिस पर हैंडसम बयान सामने आया है वो हैं सुनील शेट्टी।

अभिनेता सुनील शेट्टी ने कहा कि यह सब विवाद सोशल मीडिया की वजह से हो रहा है। इन सभी चीजों को सोशल मीडिया पर प्रचारित किया जाता है। यह विवाद खड़ा हो गया। फिल्मों में, भाषा महत्वपूर्ण हो सकती है, लेकिन ओटीटी प्लेटफार्मों पर भाषा कोई मायने नहीं रखती है। केवल सामग्री और कहानी मायने रखती है। हम भारतीय हैं और हमें ऐसी चीजों में नहीं लड़ना चाहिए। “मैं भी दक्षिण से हूँ। लेकिन मैं लंबे समय तक मुंबई में था, इसलिए मैं मुंबई से बन गया। मैं मुंबई कार हूं और मैं हमेशा ऐसा ही रहूंगा। अभिनेता ने कहा कि यह दर्शकों पर निर्भर करता है कि उन्हें कौन सी फिल्में देखनी चाहिए और कौन सी नहीं देखनी चाहिए। ‘

सुनील शेट्टी ने यह भी कहा कि फिलहाल निर्माता दर्शकों को भूल जाते हैं। वे भूल जाते हैं कि उनकी फिल्में लोगों तक कैसे पहुंचती हैं। फिर उन्होंने जो कहा वह काफी सुर्खियों में रहा। सुनील शेट्टी ने कहा कि उन्होंने कई निर्माताओं से बात की है। जिन्होंने कहा कि सिनेमा हो या ओटीटी, एक पिता, पिता, पिता और परिवार के बाकी लोग अलग-अलग रहते हैं। उनके इस बयान को फैंस काफी पसंद कर रहे हैं। वहीं यूजर्स इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हैं।

इसके बाद अभिनेता ने कहा कि आज के समय में, फिल्मों में, मार डैड को बहुत सारा स्क्रीन समय दिया जाता है, उच्च गति से चलना, धीमी गति, आदि। इसे कम किया जाना चाहिए। इन सभी दृश्यों को कुछ प्रतिशत लोगों द्वारा पसंद किया जाता है। वहीं 70 फीसदी लोग बॉलीवुड फिल्मों में एक्टिंग और कहानी देखकर सीटी बजाते हैं। उन्होंने कहा कि जब भी भारत की बात होती थी, बॉलीवुड का लेबल होता था। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें हमेशा अपने कंटेंट पर ध्यान देना चाहिए न कि किसी चीज पर।