सालों बाद जीनत अमान ने तोड़ी चुप्पी, कहा – डायरेक्टर मुझसे बारिश वाला सिन करवाते थे क्योंकि उन्हें मेरा भीगा बदन….

0
2

90 के दशक की जानी-मानी और दिग्गज अदाकारा जीनत अमान के चाहने वाले आज भी है। आज भी फैंस उनकी फिल्मों को उतना ही पसंद करते हैं। जितना तब करते थे, जब ये फिल्में रिलीज़ हुई थी। फैंस जीनत अमान की एक्टिंग से लेकर उनकी खूबसूरती के दीवाने हैं। वैसे तो एक्ट्रेस ने एक से बढ़कर एक फिल्में की हैं लेकिन अब उन्होंने फिल्मी दुनिया से दूरी बना ली है। एक्ट्रेस इस समय अपनी पर्सनल लाइफ में व्यस्त हैं। एक्ट्रेस को अक्सर छोटे पर्दे के रिएलिटी शोज़ में बतौर गेस्ट देखा जाता है। हाल ही में उनका एक खुलासा जोरों से वायरल हो रहा है।

गौरतलब है कि जीनत अमान ने फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ से पहचान पाई थी। जिसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और कमाल की फिल्में देना शुरु कर दिया। एक्ट्रेस ने फिल्मों में कई बोल्ड सीन्स भी निभाए थे। जिन्हें फैंस का खूब प्यार मिला। हाल ही में उनका एक खुलासा सुर्खियां बटोर रहा है। जिसमें एक्ट्रेस ने अपने पतियों के बारे में बात की है। जी हां पतियों, एक्ट्रेस की दो शादियां हुई हैं। जीनत की पहली शादी साल 1978 में संजय खान से हुई थी। लेकिन दोनों एक साल भी साथ नहीं बिता पाए और साल 1979 में दोनों ने तलाक ले लिया।

फिर साल 1985 में उनकी शादी मज़हार खान से हुई। एक्टर के साथ शादी करने पर एक्ट्रेस के परिवार वाले राजी नहीं थे। लेकिन फिर भी उन्होंने शादी कर ली। दोनों के दो बच्चे हैं। जिनका नाम उन्होंने ज़हान खान और अजान खान रखा है। शादी के कुछ साल दोनों कलाकार के बीच का रिश्ता सही था। फिर मज़हार- जीनत के साथ मारपीट करने लगे। दरअसल, मज़हार चाहते थे कि जीनत फिल्मी दुनिया को अलविदा कहकर घर संभालने पर ध्यान दें। जो बात जीनत को बिल्कुल भी रास न आई और उन्होंने 1998 में मज़हार को भी तलाक दे दिया।

एक्ट्रेस ने अपने खुलासे में बताया था कि वो तीसरी शादी करने के लिए भी तैयार हैं। क्योंकि वो अपनी लाइफ के डिसीज़न्स खुद ले सकती हैं और उनके दोनों बेटे बड़े हो गए हैं। इसलिए उन्हें किसी भी बात की टेंशन नहीं है। बता दें कि जीनत ने अपने करियर में कई फिल्में दी, जो फिल्म जगत के लिए ‘मील का पत्थर’ साबित हुई हैं। उन्हें ‘यारों की बारात’, ‘डॉन’, ‘धर्मवीर’, ‘अजनबी’, ‘धुंध’, ‘रोटी कपड़ा और मकान’, ‘इंसाफ का तराजू’ जैसी कई फिल्मों के लिए आज भी याद किया जाता है।