बिहार में 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को कारोबार के लिए सरकार देगी 10 लाख रुपये, जानिए पूरी आवेदन प्रक्रिया

0
2

अगर आप काफी समय से कोई कारोबार करने की सोच रहे हैं तो यह खबर आपका आधा तनाव दूर कर देगी। दरअसल सरकार कारोबार के लिए 10 लाख रुपये तक का कर्ज दे रही है। आप घर बैठे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

सरकार आपके पसंदीदा उद्योग और व्यवसाय से संबंधित 15 दिनों का निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करेगी, जिसके बाद आप 50 प्रतिशत सब्सिडी पर 10 लाख रुपये का भुगतान कर सकते हैं। 50% राशि केवल 1% ब्याज के साथ 7 वर्षों में चुकाई जा सकती है। मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत उद्योग विभाग ने एक स्टार्टअप फंड की स्थापना की है, जो 18 से 50 वर्ष की आयु के लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान कर सकता है।

प्रतीकात्मक छवि

इसमें उद्योग और व्यवसाय की 100 से अधिक श्रेणियों को अपने दम पर चुना जाना है। मैं आपको बता दूं कि करीब 12 पेज के ऑनलाइन आवेदन में आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर समेत सभी वांछित जानकारियां और दस्तावेज अपलोड करने होंगे। इसके बाद उद्योग विभाग के अधिकारी कार्य स्थल सहित सूचनाओं का सत्यापन कर आवेदन के आधार पर चयन समिति को भेजेंगे। प्रमुख सचिव, उद्योग विभाग की अध्यक्षता में आपके आवेदन पर चयनित उद्योग के संबंध में सदस्यों की राय ली जाएगी।

प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह के दौरान उद्योग विभाग के तकनीकी निदेशक, चंद्रगुप्त इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, उद्योग निदेशक, वित्त निगम, परियोजना प्रभारी, चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, उद्योग संघ, योजना संस्थान, वित्तीय सलाहकार और विकास प्रबंधन संस्थान के प्रतिनिधि। बैठक में सदस्य तय करेंगे।

अगर आप जिले के नागरिक हैं तो आपके पास इंटरमीडिएट या आईटीआई सर्टिफिकेट होना चाहिए। आधार और मोबाइल नंबर के सत्यापन के आधार पर आवेदन स्वीकार किया जाएगा। यदि आप एक फर्म स्थापित करते हैं, तो आपको उसका पंजीकरण, बैंक खाता, पैन कार्ड, निवास का प्रमाण और औद्योगिक व्यवसाय का स्थान प्रदान करना होगा। अपनी जमीन, मकान या पट्टे का प्रमाण प्रस्तुत करना होगा।

साथ ही आवेदन में मांगी गई जानकारी फोटो और डिजिटल सिग्नेचर के साथ जमा करनी होगी। इस योजना के तहत पिछड़ा वर्ग और सामान्य वर्ग को समान सुविधाएं मिलेंगी। इससे महिलाओं और अनुसूचित जातियों को भी लाभ होगा। राज्य में करीब 16000 आवेदन प्राप्त हुए हैं। वहीं, पटना जिले से सिर्फ 800 आवेदक ही मिले हैं. चयनित युवाओं को 15 दिन का नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के लिए चंद्रगुप्त इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, ललित नारायण इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट और बिहार इंस्टीट्यूट ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप को अधिकृत किया गया है। विभाग ने इन तीनों संस्थानों को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा है।