श्वेता तिवारी को तलाक देने से पहले राजा चौधरी ने रखी थी ये शर्त, लड़की के बदले मांगा था ये चीज!

0
5

श्वेता तिवारी की गिनती उन टीवी अभिनेत्रियों में होती है जिन्होंने अपने दम पर पहचान बनाई है। इन सबके बीच श्वेता अपनी प्रोफेशनल लाइफ के साथ-साथ अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर भी सुर्खियों में रहती हैं। कुछ महीने पहले खबरें आई थीं कि राजा चौधरी अब मुंबई शिफ्ट हो गए हैं। इस बारे में जब राजा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वह अपनी बेटी पलक के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना चाहते हैं।

इसी वजह से उन्होंने फिर से मुंबई जाने का फैसला किया है। इस बीच राजा ने यह भी कहा कि वह अपनी बेटी पलक को 13 साल से देख रहे हैं। बताया जाता है कि श्वेता तिवारी ने 1998 में बहुत कम उम्र में राजा चौधरी के साथ सात फेरे लिए थे। लेकिन शादी के कुछ साल बाद ही दोनों के अलग होने की खबरें आने लगीं। नतीजतन, 2012 में दोनों का तलाक हो गया। श्वेता और राजा के रिश्ते इस कदर खराब हो गए थे कि पलक के जन्म के बाद भी उनमें कोई सुधार नहीं हुआ, इसलिए दोनों ने अब अलग होने का फैसला कर लिया था।

राजा और श्वेता के लिए तलाक लेना आसान नहीं था, कोर्ट जाने में कई साल लग गए। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और कोर्ट ने तलाक को मंजूर कर लिया। तलाक के बारे में बात करते हुए श्वेता ने कहा था कि जब जज ने इसकी इजाजत दी तो उन्हें लगा कि सारी खुशियां मिल गई हैं।

इतना ही नहीं, एक्ट्रेस ने यह भी कहा कि यह विश्वास करना मुश्किल है कि उनका तलाक मंजूर हो गया है। श्वेता के लिए यह पूरा दौर तनावपूर्ण रहा। तलाक के बारे में बात करते हुए श्वेता ने यह भी कहा था कि यह कदम उठाने से पहले राजा ने उनके सामने एक शर्त रखी थी। राजा ने कहा कि अगर श्वेता संपत्ति में हिस्सा देगी तो वह अपनी बेटी को छोड़ देगा। राजा ने श्वेता से कहा था कि मैं तुम्हें तलाक दे दूंगा, लेकिन तुम मुझे एक फ्लैट दे दो, यह सुनकर श्वेता चौंक गई।

श्वेता ने कहा था कि उन्होंने शादी के बाद ज्वाइंट प्रॉपर्टी खरीदी थी। श्वेता ने मलाड बीच पर करीब 93 लाख की कीमत का एक जंगल खरीदा था। श्वेता ने यह घर तलाक के वक्त राजा को दिया था। लेकिन बस्ती में यह भी लिखा था कि राजा अब अपनी बेटी को नहीं देख पाएगा। हालांकि, पलक को अपने पिता से जब चाहे मिलने का अधिकार दिया गया था।