पटना के बेरा और नालंदा में चिरया नदी पर बैराज का निर्माण लगभग पूरा, किसानों को मिलेगा सिंचाई का लाभ

0
8

जल संसाधन एवं सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री संजय कुमार झा ने नालंदा जिले में चिरैया नदी बैराज और पटना जिले के मसूदी प्रखंड में बेरा बैराज का निर्माण जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने बुधवार को इन दोनों जगहों का निरीक्षण किया. इन दोनों बैराजों से लगभग 5187 हेक्टेयर भूमि को सिंचाई की सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने नालंदा जिले के चंडी प्रखंड अंतर्गत मुख-चिरैया नदी जोड़ो योजना के तहत निर्मित बैराज स्थल का निरीक्षण किया. हालांकि बैराज का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है। जल संसाधन मंत्री ने एक सप्ताह के भीतर इसे उदघाटन के लिए पूरी तरह तैयार करने के आदेश दिए हैं.

इस अवसर पर मंत्री संजय कुमार झा ने संवाददाताओं से कहा कि नदियों को आपस में जोड़ने का विचार बिहार से प्राप्त हुआ है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेशानुसार प्रदेश में छोटी नदियों को जोड़कर क्षेत्र को बाढ़ से बचाने के लिए जल संसाधन विभाग लगन से काम कर रहा है.सिंचाई की सुविधा दोबारा मिलेगी. चिरैया नदी का मुहाना नदी से लगभग 1.5 किमी दूर है। उस पर पहले से ही एक चेक डैम बना हुआ था, वह जीर्ण-शीर्ण अवस्था में था। वहीं जल संसाधन विभाग ने इस चेक डैम की जगह नया बैराज बनाया है, जिसका काम लगभग पूरा हो चुका है.

आज पटना जिले के मसूधी प्रखंड में दरधा नदी पर बेरा बैराज एवं दर्द के जीर्णोद्धार कार्य स्थल का निरीक्षण किया.

इसके बायीं ओर मुख्य नहर की लंबाई 8 किमी है, जबकि छोटी नहर की लंबाई भी 8 किमी है। इससे #Masaudhi ब्लॉक[email protected] @IPRD_Bihar pic.twitter.com/uX7gQRQTzD ​​के एक बड़े क्षेत्र को सिंचाई की सुविधा मिलेगी।

– संजय कुमार झा (@ संजय झाबिहार) 3 अगस्त, 2022

निरीक्षण के दौरान पूर्व मंत्री हरिनारायण सिंह, जदयू जिलाध्यक्ष सियाशरण ठाकुर सहित जल संसाधन विभाग के कई वरिष्ठ अधिकारी व इंजीनियर मौजूद थे. उन्होंने कहा कि अधिकारियों को पटना के मसूदी प्रखंड में दरधा नदी पर बेरा बैराज का निर्माण 15 अगस्त से पहले पूरा करने का निर्देश दिया गया है. उन्होंने कहा कि इससे करीब 3187 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी.सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री के आदेशानुसार मसूदी प्रखंड में बाढ़ से बचाव व सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जल संसाधन विभाग ने दरधा नदी पर बेरा बैराज का निर्माण किया है. .

इसके बायीं ओर की मुख्य नहर की लंबाई 8 किमी है, जबकि इससे निकलने वाली छोटी नहर की लंबाई 8 किमी है। इससे महुआ बीघा गांव से लेकर मसौढ़ी प्रखंड के बधनी गांव तक कई गांवों में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी. वर्तमान में जब बाढ़ के दौरान दरदा नदी में पानी अधिक होता है, तो इस चैनल के माध्यम से सिंचाई की सुविधा होती है, लेकिन बाढ़ खत्म होते ही सिंचाई बाधित हो जाती है। इस सिंचाई योजना से बेदरी बीघा, जैलाल बीघा, बलैथा, गेल्हा बीघा, नदौल, रमन, सगुनी, बहादुर बीघा, पकरी, शेखपुरा, बेरा, गुलरिया बीघा और बोर्नी के गांवों में लगभग 3187 हेक्टेयर में खरीफ सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी. आदि। .