बिहार: बाढ़ त्रासदी में मातम मना रहे लोग, तस्वीरें दिखाती हैं गोपालगंज के ग्रामीणों का दर्द

0
9

गोपालगंज। हालांकि गंडक नदी का जलस्तर कम होने लगा है, लेकिन बाढ़ पीड़ितों की परेशानी कम नहीं हो रही है. कई परिवार अपने घरों में पानी रिसने के बाद अपनी जान (यानी चाचारी) को छोड़ कर चले जाते हैं। हैंडपंप व सरकारी नल के डूबने के बाद पेयजल की समस्या सबसे ज्यादा है। पूरे जिले की बात करें तो सारण बैराज के अंदर 6 प्रखंडों में 26 गांव व बस्तियां हैं, जहां बाढ़ के पानी से लोग बेहाल हैं. (फोटो: गोविंद कुमार)