इस तरह की महिलाओं का चरित्र नही होता है ठीक, ऐसे करे पहचान

0
8125

हम लोग कई जगहों पर बाते करते है देखते है और कई बार सुनते भी है कि उनके साथ में ये हो गया, उनकी शादी नही टिकी और कई तरह की चीजे होती है. इस पोस्ट का उद्देश्य किसी महिला की गरिमा को ठेस पहुँचना नही है मगर हम सब जानते है कि चरित्र पुरुष या महिला दोनों का ही कही न कही खराब निकल सकता है और ऐसे में जरूरी है कि हम उनकी पहचान करना सीखे ताकि हम जीवन में कही पर भी गच्चा या फिर धोखा न खा जाए.

आम तौर पर ऐसा होता ही होता है और ये आप भी समझते है. खैर अब जो भी है अभी हम बात कर रहे है कुछ लक्षणों के बारे में जो आपको इंसान की पहचान करने में मदद करते है, चलिए फिर इनके बारे में थोडा सा विस्तार से जान लेते है जो आपको काफी हद तक इस मामले में क्लेरिटी भी दे देगा. ये संस्कृत के श्लोक है जिनका हिंदी अर्थ हम आपको बता रहे है.

  1. वो महिला जो मदिरा का सेवन करती है, जो दुश्ट पुरुषो के साथ में विचरण करती है और असमय ही अपने परिवार से भी दूर रहती है.
  2. शर्म एक नारी का आभूषण होता है, जो भी महिला अपनी शर्म को त्याग देती है और जीवन मे लिहाज नही करती है ऐसी लज्जाहीन स्त्री समाज में परिवार को शर्मिंदा करवाती है. हालांकि यहाँ  पर बात बिलकुल उनके घूँघट में रहने की नही हो रही है, बल्कि सभ्यता में रहने की है.
  3. असमय सोने वाली और प्रातः में सूर्योदय के बाद भी सोने वाली महिलाएं भी अच्छी नही होती है, ये लक्षण श्लोको में अच्छा नही माना जाता है.
  4. वो महिला जो अपने पति को छोड़कर के किसी गैर के घर पर रूक सकती है या फिर उसे ये कुछ बड़ा प्रतीत नही होता है.
  5. वो महिला जो अपने पुत्र या पुत्री के साथ में समय न बिताती हो वो भी चरित्र से अच्छी नही होती है. जन्म देने के बाद उसका कर्तव्य होता है.