पटना के मोस्ट वांटेड अपराधी को बिहार एसटीएफ ने नागपुर से किया गिरफ्तार, 14 साल से फरार

0
15

पटना। बिहार की राजधानी पटना के मोस्ट वांटेड अपराधी रवि गोप को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. बिहार एसटीएफ ने इस अपराधी को महाराष्ट्र के नागपुर से 50 हजार रुपये के इनामी के साथ गिरफ्तार किया है. कुख्यात रवि गोप पिछले 14 साल से फरार था। वह पुलिस के डर से बिहार छोड़कर चला गया था। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार रवि गोप कई गंभीर अपराधों में आरोपी है. वह नागपुर में रहकर पटना की आपराधिक दुनिया चला रहा था। वह पुलिस से बचने के लिए यहां कबाड़ का धंधा करता था। रवि गोप ने महाराष्ट्र के साथ-साथ गोवा में भी अपनी जड़ें जमा ली थीं।

रवि गोप 2008 से फरार था। बिहार एसटीएफ की एक टीम पिछले कई महीनों से उसके बारे में जानकारी जुटा रही थी, उसके नागपुर में छिपे होने की सूचना मिलने पर पटना से एसटीएफ की एक टीम नागपुर पहुंची और महाराष्ट्र पुलिस की मदद से रवि गोप को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार रवि गोप को लेकर पुलिस नागपुर से पटना पहुंची है. पटना के राजेंद्र नगर रोड नंबर 1 पर रवि का दहशत काफी दिनों से था. वह इसी इलाके का रहने वाला है और बम फेंकने में माहिर है। पुलिस के मुताबिक उसने बम फेंककर कई हत्याएं की हैं. गोविंद मित्र रोड से लेकर पटना के दाना और नाला रोड तक फर्नीचर कारोबारी उसके डर से कांपते थे. वह नागपुर में रहते हुए भी पटना के कारोबारियों से रंगदारी वसूल करता था। इस दौरान पुलिस ने शिकायत के आधार पर उसे गिरफ्तार कर लिया।

एसटीएफ की माने तो रवि गोप ने नाला रोड में बीजेपी नेता क्रांति की भी हत्या कर दी थी. इसके अलावा संग्राम सिंह और अशोक गुप्ता हत्याकांड में भी उसका नाम सामने आया था। रवि गोप के खिलाफ पटना के तीन थानों में 16 प्राथमिकी दर्ज की गई है. इनमें से दर्जन भर अपराध अकेले कदमकुआं थाने में, तीन पीरबहोर में और एक फुलवारी शरीफ थाने में दर्ज किया गया है। गनमैन गुड्डू शर्मा, जिसे 2005 में दिल्ली में पुलिस ने मार गिराया था, रवि गोप का दाहिना हाथ था।