बेड में दबे करोड़, 13 घंटे तक 12 मशीनें गिनीं, 390 करोड़ की संपत्ति जब्त

0
13

बेड में दबे करोड़, 13 घंटे तक 12 मशीनें गिनीं, 390 करोड़ की संपत्ति जब्त बिस्तर में दबे करोड़, 13 घंटे तक गिने 12 मशीनें, 390 करोड़ की संपत्ति जब्त
महाराष्ट्र के जालना में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की एक टीम ने बड़े छापेमारी की है. इस छापेमारी में IT ने 390 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है. इस छापेमारी में 58 करोड़ नकद और 32 किलो सोना जब्त किया गया है. यह कार्रवाई 1 से 8 अगस्त के बीच की गई है। आयकर विभाग की नासिक शाखा ने यह कार्रवाई की है. इस ऑपरेशन में राज्य भर से 260 अधिकारियों और कर्मचारियों ने भाग लिया।

छापेमारी में मिली नकदी को गिनने में विभाग को 13 घंटे का समय लगा. नगदी इतनी थी कि उसे जालान्या के स्टैनिक स्टेट बैंक में ले जाकर गिना गया। सुबह 11 बजे से शुरू हुई कैश काउंटिंग दोपहर 1 बजे तक चलती रही।

महाराष्ट्र में जालना अपने स्टील कारोबार के लिए जाना जाता है। सूत्रों के मुताबिक जिन दोनों कंपनियों के छापे मारे गए हैं, वे दोनों स्टील कंपनियां हैं। ये कंपनियां हैं एसआरजे पीटी स्टील्स प्राइवेट लिमिटेड और कालिका स्टील अलॉयज प्राइवेट लिमिटेड। SRJ मेटल कास्टिंग में डील करता है। इस कंपनी का उत्पाद विभिन्न वस्तुओं के निर्माण के लिए तैयार या अर्ध-तैयार स्टील है। यह कंपनी 1985 में अस्तित्व में आई थी। वहीं अगर कालिका स्टील की बात करें तो यह टिकाऊ, बेहद मजबूत और लचीला स्टील बनाती है। यह महाराष्ट्र में एक बहुत प्रसिद्ध टीएमटी बार निर्माता है। यह कंपनी 2003 में अस्तित्व में आई थी।

इसके अलावा औरंगाबाद में एक नामी डिवेलपर और बिजनेसमैन के भी छापेमारी की गई है, लेकिन उसकी जानकारी अभी सामने नहीं आई है।

यह भी पढ़ें: जब गौरी-शाहरुख ने बेडरूम में यह हाल देखा तो सुहाना के पैरों तले जमीन खिसक गई।

आईटी टीम के लिए इतनी बड़ी छापेमारी करना आसान नहीं था। इसके लिए अधिकारियों ने जाल बिछाया। अधिकारियों ने राहुल वेड्स अंजलि के स्टिकर अपने वाहनों पर लगाए। ताकि किसी को शक न हो। हर कोई सोचता है कि यह एक बारात की गाड़ी है। सूत्रों के मुताबिक 3 अगस्त की सुबह नासिक और औरंगाबाद जिलों से आयकर विभाग के 100 से ज्यादा वाहन जालना में दाखिल हुए. वाहनों पर शादी समारोह के स्टिकर चिपकाए गए थे। इन वाहनों को देखकर लोगों को लगा कि शादी समारोह के लिए कोई बड़ी बारात है, लेकिन बाद में पता चला कि यह कोई बारात नहीं है, छापेमारी में शामिल होने के लिए आयकर अधिकारी आए थे। किसी भी शादी में।

वहीं, आईटी को शक है कि काफी कैश ट्रांसफर किया गया है, जिसकी जांच की जा रही है। वहीं, आईटी टीम को भी मनी लॉन्ड्रिंग का शक है, इसकी जांच के लिए आईटी ईडी की मदद लेगा।

व्हाट्सएप से जुड़ें