नीतीश कुमार की इच्छा- बिहार में समन्वय समिति का गठन, क्या तेजस्वी मानेंगे?

0
9

दरअसल, फिलहाल जदयू-राजद बिहार सरकार में मंत्रियों के नाम फाइनल नहीं हुए हैं. ऐसे में देखा जा रहा है कि समन्वय समिति की मांग बढ़ने से नीतीश कुमार अपनी आगे की प्रगति में किसी प्रकार की बाधा नहीं चाहते हैं.

नीतीश कुमार की इच्छा- बिहार में समन्वय समिति का गठन, क्या तेजस्वी मानेंगे?नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव

छवि क्रेडिट स्रोत: पीटीआई

बिहार में महागठबंधन के सुचारू संचालन के लिए समन्वय समिति के गठन की संभावना है. जनता दल (यूनाइटेड) (जेडीयू) ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) पर एक समन्वय समिति बनाने का दबाव बनाया। दरअसल, फिलहाल जदयू-राजद बिहार सरकार में मंत्रियों के नाम तय नहीं हुए हैं. ऐसे में देखा जा रहा है कि समन्वय समिति की मांग बढ़ने से नीतीश कुमार अपनी आगे की प्रगति में किसी प्रकार की बाधा नहीं चाहते हैं.

समन्वय समिति का उद्देश्य सरकार के सभी सहयोगी दलों के वरिष्ठ नेताओं को शामिल कर सरकार के कार्यों को बेहतर ढंग से चलाने के लिए आवश्यक मंत्रिमंडल के गठन पर निर्णय लेना भी हो सकता है।

महागठबंधन के लिए समन्वय समिति के गठन के संकेत शुक्रवार शाम को तब देखने को मिले जब महागठबंधन के चौथे सबसे बड़े गुट भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) (सीपीआई-एमएल) के विधायक मुख्यमंत्री से मिले। जद (यू) नेता नीतीश कुमार ने उनके आवास पर मुलाकात कर उनका समर्थन मांगा।

भाकपा-माले विधायक संदीप सौरव ने पीटीआई-भाषा से कहा, ”मुख्यमंत्री समन्वय समिति के पक्ष में थे और हमें भी ऐसा ही लगा। किसी सहकारी आपत्ति की कोई संभावना नहीं है। इसलिए यह सही समय पर अस्तित्व में आ सकता है।

समाचार अपडेट कर रहा है

(भाषा इनपुट के साथ)