क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी गिरोह का भंडाफोड़, 2 साइबर अपराधी गिरफ्तार

0
10

जन सैलाब बिहार में साइबर क्राइम तेजी से बढ़ रहा है. जमुई के नगर थाना पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो साइबर अपराधियों (साइबर क्रिमिनल अरेस्ट) को गिरफ्तार किया है. इनके पास से पांच लैपटॉप, चार मोबाइल फोन, नौ एटीएम कार्ड, बैंक पासबुक और कई चेक बुक जब्त किए गए हैं। इसके अलावा आरोपी के पास से 84 हजार रुपये नकद भी बरामद किए गए हैं। गिरफ्तार साइबर अपराधियों की पहचान नगर थाना क्षेत्र के हंसडीह और काकन गांव के निवासी राजाराम मंडल और रंजय कुमार के रूप में हुई है. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सोनो थाना क्षेत्र के निवासी प्रदीप कुमार ने अपने क्रेडिट कार्ड से करीब एक लाख रुपये की धोखाधड़ी की शिकायत की थी. पुलिस ने मामला दर्ज करने के बाद जांच शुरू कर दी है और दो साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार 31 जुलाई 2021 को सोनो थाना क्षेत्र निवासी प्रदीप कुमार से 97,940 रुपये की ठगी की गयी. पुलिस को दी गई पीड़िता की अर्जी के मुताबिक, प्रदीप कुमार का मोबाइल फोन उनके बेटे ने पास में ही रखा था. साइबर ठगों ने उसे फोन किया और क्रेडिट कार्ड की वैधता अवधि बढ़ाने के लिए एक ओटीपी मांगा, यह कारण बताते हुए कि यह समाप्त हो गया था। पीड़िता के बेटे ने गुंडों का वेश बनाकर उन्हें ओटीपी दिया, फिर क्रेडिट कार्ड की रकम उड़ा दी. पुलिस को मामला दर्ज करने के बाद वैज्ञानिक व तकनीकी शोध से पता चला कि जमुई के हंसडीह निवासी राजाराम मंडल ने फर्जी तरीके से पीड़िता के क्रेडिट कार्ड को अपने खाते में जमा कराया, फिर राशि अपने साथी रंजय के खाते में ट्रांसफर कर दी. में स्थानांतरित किया गया था

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार साइबर अपराधियों ने धोखाधड़ी करने के लिए ऐप का इस्तेमाल किया। गिरफ्तार राजाराम मंडल के बारे में कहा जाता है कि वह मोबाइल की दुकान चलाता है.

जाजा एसडीपीओ रविशंकर प्रसाद ने बताया कि पुलिस अधीक्षक (एसपी) शौर्य सुमन के निर्देश पर पुलिस के तकनीकी प्रकोष्ठ ने घटना का भंडाफोड़ किया है. उन्होंने आम जनता से साइबर ठगों से दूर रहने के लिए किसी को भी कोई सूचना या ओटीपी न देने की अपील की.